Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,

आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
जीने की वज़ह अरमानों से मिटाऊं कैसे,

तुम दिल हो धड़कन हो आघात हो मेरा,
जब तुम साथ हो तो फिर मुस्कुराऊं कैसे,

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
कवि रमेशराज
दीवारों की चुप्पी में
दीवारों की चुप्पी में
Sangeeta Beniwal
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे  दिया......
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे दिया......
Rakesh Singh
कहानी हर दिल की
कहानी हर दिल की
Surinder blackpen
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
3469🌷 *पूर्णिका* 🌷
3469🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
मालिक मेरे करना सहारा ।
मालिक मेरे करना सहारा ।
Buddha Prakash
स्याही की
स्याही की
Atul "Krishn"
"आदि नाम"
Dr. Kishan tandon kranti
बाल कविता : काले बादल
बाल कविता : काले बादल
Rajesh Kumar Arjun
Don't Give Up..
Don't Give Up..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मूँछ पर दोहे (मूँछ-मुच्छड़ पुराण दोहावली )
मूँछ पर दोहे (मूँछ-मुच्छड़ पुराण दोहावली )
Subhash Singhai
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"" *हाय रे....* *गर्मी* ""
सुनीलानंद महंत
काव्य भावना
काव्य भावना
Shyam Sundar Subramanian
*हमारे ठाठ मत पूछो, पराँठे घर में खाते हैं (मुक्तक)*
*हमारे ठाठ मत पूछो, पराँठे घर में खाते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
Sushila joshi
धड़कूँगा फिर तो पत्थर में भी शायद
धड़कूँगा फिर तो पत्थर में भी शायद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परत दर परत
परत दर परत
Juhi Grover
कौन हूं मैं?
कौन हूं मैं?
Rachana
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अपनी सीरत को
अपनी सीरत को
Dr fauzia Naseem shad
होली के मजे अब कुछ खास नही
होली के मजे अब कुछ खास नही
Rituraj shivem verma
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूर्वार्थ
श्रीकृष्ण
श्रीकृष्ण
Raju Gajbhiye
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
जिनके पास
जिनके पास
*प्रणय प्रभात*
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
हरवंश हृदय
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
Kuldeep mishra (KD)
Loading...