Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 3 min read

आइए डिजिटल उपवास की ओर बढ़ते हैं!

हम और आप में से ज्यादातर लोग सोशल मीडिया के आदि हो रहे हैं। आज सोशल मीडिया का इस्तेमाल कुछ लोग दोस्त और रिश्तेदारों से जुड़ने के लिए कर रहे हैं, तो कुछ लोग वीडियो देखने के लिए। सोशल मीडिया हम सभी के लिए एक जाना पहचाना व लोकप्रिय माध्यम है। टेक्नोलॉजी और स्मार्ट उपकरणों के युग में आज नेटफ्लिक्स, अमेजॉन प्राइम और हॉटस्टार जैसे माध्यमों में फिल्म, वेब सीरीज आदि देखना और फेसबुक, टि्वटर पर स्क्रॉल करना हर उम्र के लिए एक आम बात हो गई है। यह इंसानी सभ्यता और अस्तित्व के लिए गंभीर चिंता का विषय है।

जबसे सोशल मीडिया आया है तब से हम अपने परिवार के साथ रहते हुए भी अलग-थलग महसूस करते हैं। सोशल मीडिया से युवाओं में अवसाद और डिप्रेशन का खतरा बढ़ रहा है, इसके साथ-साथ चिड़चिड़ापन भी दिखाई दे रहा है। हमारे समाज में सोशल मीडिया के आने के बाद लोगों में मोटापा, अनिद्रा और आलस्य की समस्या भी सामने आ रही है। कुछ रिसर्च बताते हैं कि सोशल मीडिया के आने के बाद से सुसाइड के मामले में बढ़ोतरी हुई है। सोशल मीडिया चेक ् और स्क्रोल करना, पिछले एक दशक के मुकाबले तेजी से लोकप्रिय गतिविधि बन गई है। सोशल मीडिया आज सभी देशों के लिए एक व्यावहारिक लत बन गई है।

आज फोन बड़े से लेकर बच्चों तक के लिए जरूरी हो गया है। जहां बच्चों की पढ़ाई ऑनलाइन हो रही है तो वही‌ बड़ों को अपडेट रखने के लिए फोन का इस्तेमाल करना पड़ रहा है। फोन का ज्यादा इस्तेमाल करने से लोगों में सोशल मीडिया की लत लग रही है। जिससे लोगों की नींद पर असर पड़ रहा है और नजरें तेजी से कमजोर हो रही है। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ की एक रिपोर्ट के अनुसार अगर कोई व्यक्ति एक हफ्ते तक लगातार सोशल मीडिया का प्रयोग करता है, तो वह अपनी एक रात की नींद खो चुका होता है।

इसके अलावा हमारे युवाओं में ऑनलाइन सट्टेबाजी और ऑनलाइन खेलों में पैसा लगाने की लत भी सामने आ रही है। सोशल मीडिया के अत्यधिक उपयोग से हमारे युवाओं में ना सिर्फ आत्मविश्वास की कमी आ रही है, बल्कि अकेलेपन का भी आभास लगातार बढ़ता जा रहा है। सोशल मीडिया से सबसे अधिक प्रभावित हमारा युवा वर्ग हो रहा है। सोशल मीडिया के कारण आज कई युवा आत्महत्या कर रहे हैं तो कई युवा मानसिक अस्वस्थ का शिकार हो रहे हैं। यह समस्या आने वाले समय में और बढ़ने की ओर इशारा करती है।

लोग घंटों ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर फिल्म, वेब सीरीज, कॉमेडी इत्यादि चीजें देख रहे हैं। जिससे लोग अपने समय का सही से इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं। एक व्यक्ति तभी स्वस्थ होगा, जब उसे पर्याप्त आहार और नींद मिलेगी। हम सभी के सामने एक प्रश्न है- सोशल मीडिया से होने वाली समस्याओं से कैसे निपटा जाए ? जवाब- आज हमें कम से कम सप्ताह में एक या दो बार सोशल मीडिया फ्री दिवस या डिजिटल उपवास करने की जरूरत है। इसके अलावा हमें सोशल मीडिया का उपयोग उतना ही करना है, जितना वह हमारे लिए जरूरी है। अपने बच्चों को भी हमें सोशल मीडिया के खतरों व समस्याओं से रूबरू करवाना होगा और सोशल मीडिया के अत्यधिक उपयोग से रोकना होगा। कंपनियों, स्कूलों और सरकारी संस्थानों को भी हफ्ते में एक दिन मोबाइल फ्री डे मनाने की जरूरत है।

– दीपक कोहली

2 Likes · 2 Comments · 227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मतदान करो मतदान करो
मतदान करो मतदान करो
Er. Sanjay Shrivastava
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
Arvind trivedi
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
"प्रेम न पथभ्रमित होता है,, न करता है।"
*Author प्रणय प्रभात*
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
हरवंश हृदय
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
2589.पूर्णिका
2589.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
!! प्रार्थना !!
!! प्रार्थना !!
Chunnu Lal Gupta
भेड़ चालों का रटन हुआ
भेड़ चालों का रटन हुआ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अजनबी जैसा हमसे
अजनबी जैसा हमसे
Dr fauzia Naseem shad
" सितारे "
Dr. Kishan tandon kranti
संभव कब है देखना ,
संभव कब है देखना ,
sushil sarna
चन्द ख्वाब
चन्द ख्वाब
Kshma Urmila
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
gurudeenverma198
आंगन आंगन पीर है, आंखन आंखन नीर।
आंगन आंगन पीर है, आंखन आंखन नीर।
Suryakant Dwivedi
मेरे प्रिय कलाम
मेरे प्रिय कलाम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
Ravikesh Jha
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️
डॉ० रोहित कौशिक
हाइकु- शरद पूर्णिमा
हाइकु- शरद पूर्णिमा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विचार , हिंदी शायरी
विचार , हिंदी शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भोले भाले शिव जी
भोले भाले शिव जी
Harminder Kaur
कजरी (वर्षा-गीत)
कजरी (वर्षा-गीत)
Shekhar Chandra Mitra
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
Loading...