Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

आंखों में कभी जिनके

आंखों में कभी जिनके
कोई खवाब नहीं सजते ।
मुफ़लिस के यह बच्चे
कभी नाज़ों में नहीं पलते ॥

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
पूर्वार्थ
दूध वाले हड़ताल करते हैं।
दूध वाले हड़ताल करते हैं।
शेखर सिंह
न शायर हूँ, न ही गायक,
न शायर हूँ, न ही गायक,
Satish Srijan
परिवर्तन विकास बेशुमार🧭🛶🚀🚁
परिवर्तन विकास बेशुमार🧭🛶🚀🚁
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
यादगार
यादगार
Bodhisatva kastooriya
कवियों का अपना गम...
कवियों का अपना गम...
goutam shaw
"डार्विन ने लिखा था"
Dr. Kishan tandon kranti
माफिया
माफिया
Sanjay ' शून्य'
बिटिया विदा हो गई
बिटिया विदा हो गई
नवीन जोशी 'नवल'
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मेरा दामन भी तार-तार रहा
मेरा दामन भी तार-तार रहा
Dr fauzia Naseem shad
*जिंदगी-नौका बिना पतवार है ( हिंदी गजल/गीतिका )*
*जिंदगी-नौका बिना पतवार है ( हिंदी गजल/गीतिका )*
Ravi Prakash
कोहरा और कोहरा
कोहरा और कोहरा
Ghanshyam Poddar
वार्तालाप
वार्तालाप
Pratibha Pandey
हट जा भाल से रेखा
हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
इक्कीसवीं सदी की कविता में रस +रमेशराज
इक्कीसवीं सदी की कविता में रस +रमेशराज
कवि रमेशराज
वोटर की पॉलिटिक्स
वोटर की पॉलिटिक्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
AMRESH KUMAR VERMA
2316.पूर्णिका
2316.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपने मन के भाव में।
अपने मन के भाव में।
Vedha Singh
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
दूरी इतनी है दरमियां कि नजर नहीं आती
दूरी इतनी है दरमियां कि नजर नहीं आती
हरवंश हृदय
तेरी याद ......
तेरी याद ......
sushil yadav
Loading...