Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2024 · 1 min read

आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं

आँखों की कुछ तो नमी से डरते हैं
यार ऐसी ज़िंदगी से डरते हैं

हो न मुख़्लिस वो है फिर किस काम का
हम तो ऐसी दोस्ती से डरते हैं

काट दी है तीरगी में ज़िंदगी
अब तो अक्सर रौशनी से डरते हैं

जो न जाने दास्तान-ए-कर्बला
लोग वो ही तिश्नगी से डरते हैं

इस तरह मरना तो जाइज़ है नहीं
इसलिए हम ख़ुदकुशी से डरते हैं

जो भी बच्चे जी रहे माँ के बिना
एक बस माँ की कमी से डरते हैं
~अंसार एटवी

47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
VINOD CHAUHAN
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
*रामपुर में सर्वप्रथम गणतंत्र दिवस समारोह के प्रत्यक्षदर्शी श्री रामनाथ टंडन*
*रामपुर में सर्वप्रथम गणतंत्र दिवस समारोह के प्रत्यक्षदर्शी श्री रामनाथ टंडन*
Ravi Prakash
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
ruby kumari
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
एक कप कड़क चाय.....
एक कप कड़क चाय.....
Santosh Soni
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
आप प्रारब्ध वश आपको रावण और बाली जैसे पिता और बड़े भाई मिले
Sanjay ' शून्य'
कैसे कह दें?
कैसे कह दें?
Dr. Kishan tandon kranti
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
Srishty Bansal
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
सत्य कुमार प्रेमी
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
For a thought, you're eternity
For a thought, you're eternity
पूर्वार्थ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
पिला रही हो दूध क्यों,
पिला रही हो दूध क्यों,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
बसंत
बसंत
नूरफातिमा खातून नूरी
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
A setback is,
A setback is,
Dhriti Mishra
पल
पल
Sangeeta Beniwal
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
Anil chobisa
दोहा- मीन-मेख
दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
शिव मिल शिव बन जाता
शिव मिल शिव बन जाता
Satish Srijan
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
Er. Sanjay Shrivastava
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
*एकांत*
*एकांत*
जगदीश लववंशी
Loading...