Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 2 min read

अहोई अष्टमी का व्रत

अहोई अष्टमी

हिंदू धर्म में वैसे तो हर व्रत का अपना-अपना विशेष महत्व है। लेकिन कुछ व्रत केवल महिलाओं अर्थात सुहागिन स्त्रियों के लिए बहुत महत्व रखते हैं। जैसे कि आज 5 नवंबर दिन रविवार को अहोई अष्टमी का व्रत है ।हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक पक्ष की अष्टमी को अहोई अष्टमी का व्रत रखा जाता है अहोई अष्टमी का व्रत करवा चौथ से चार दिन बाद और दिवाली से ठीक-आठ दिन पहले आता है। अहोई अष्टमी पूजन का शुभ मुहूर्त शाम 5:32 से शाम 6:51 तक रहेगा पूजन की अवधि 1 घंटा 18 मिनट की है।
अहोई अष्टमी का अर्थ एक प्रकार से यह भी होता है
अनहोनी को होनी बनाना।जैसे साहूकार की छोटी बहू ने कर दिखाया था। स्याहू छोटी बहू की सेवा से प्रसन्न होकर उसे साथ पुत्र और साथ बहुएँ होने का आशीर्वाद देती है। स्याहू के आशीर्वाद से छोटी बहू का घर पुत्र और पुत्र की वधुओ से हरा भरा हो जाता है। अहोई अष्टमी का व्रत और पूजा माता अहोई या देवी अहोई को समर्पित है। अहोई माता जो की देवी पार्वती का अवतार मानी जाती है उनकी पूजा की जाती है। अहोई अष्टमी का व्रत अहोई अष्टमी के दिन माँ अपनी संतान के लिए इस पवित्र व्रत को रखती है और अपनी संतान की लंबी आयु की कामना करती है। माताएं अपने पुत्र एवं पुत्री की दीर्घायु व प्रतिष्ठा की रक्षा के लिए अहोई अष्टमी व्रत रखती हैं। इस व्रत को रखने से संतान के कष्टो का निवारण होता है एवं जीवन में सुख समृद्धि व तरक्की आती है।
अहोई अष्टमी की पूजा विधि में यह व्रत दिनभर निर्जल रहकर किया जाता है। अहोई माता का पूजन करने के लिए माताएं अहोई माता की तस्वीर लगाती या बनाती है। इसके बाद कलश में जल भरकर रखा जाता है चांदी की बनी हुई स्याह की मूर्ति और दो गुड़िया रखकर उसे मौली से गुथ ले। तत्पश्चात रोली, अक्षत से उसकी पूजा करें पूजा करने के बाद दूध, भात, हलवा आदि का उन्हें नैवेद्य अर्पण करें। चंद्रमा को जल अर्पण करें फिर हाथ में गेहूं के साथ दाने लेकर कथा सुने उसके बाद मूली में पिरोई अहोई माता को गले में धारण करें अर्पित किए गए नैवेद्य को अपनी सास या ब्राह्मण को ही दे। दीपावली के शुभ दिन अहोई को उतार कर उसका गुड से भोग लगाए जितने बेटे हो उनके नाम के दो-दो दाने अहोई में डालते रहना चाहिए ऐसा करने से माता खुश होती है। बच्चों को दीर्घायु देती है और घर में मंगल कार्य करती रहती है। माता को पूरी और मिठाई का भोग लगाया जाता है इसके बाद तारे को अयोध्या देकर संतान की लंबी आयु और सुखद जीवन की कामना करने के बाद इस दिन सास या माँ के चरणों को तीर्थ मानकर उनसे आशीर्वाद लिया जाता है।

हरमिंदर कौर ,अमरोहा

2 Likes · 190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कर्म से कर्म परिभाषित
कर्म से कर्म परिभाषित
Neerja Sharma
"जांबाज़"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
अपने आलोचकों को कभी भी नजरंदाज नहीं करें। वही तो है जो आपकी
Paras Nath Jha
ईमान
ईमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
Keshav kishor Kumar
6) “जय श्री राम”
6) “जय श्री राम”
Sapna Arora
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
डी. के. निवातिया
💐प्रेम कौतुक-320💐
💐प्रेम कौतुक-320💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
बहुत असमंजस में हूँ मैं
बहुत असमंजस में हूँ मैं
gurudeenverma198
ड्यूटी
ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
22-दुनिया
22-दुनिया
Ajay Kumar Vimal
.
.
Amulyaa Ratan
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
Harminder Kaur
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सरकारी
सरकारी
Lalit Singh thakur
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*देह का दबाव*
*देह का दबाव*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
कवि रमेशराज
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
ruby kumari
*हंगामा करने वाले, समझो बस शोर मचाते हैं (हिंदी गजल)*
*हंगामा करने वाले, समझो बस शोर मचाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
षड्यंत्रों वाली मंशा पर वार हुआ है पहली बार।
षड्यंत्रों वाली मंशा पर वार हुआ है पहली बार।
*Author प्रणय प्रभात*
2512.पूर्णिका
2512.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
Loading...