Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2022 · 1 min read

अहमियत

स्वाद उनसे पूछिए, जिनके दांत नहीं।
प्यार उनसे पूछिए, जिनके मां बाप नहीं।
कहने वाले तो कह देते, जो आती इनके गले।
पता तो जब चलता है, जब आता है ऊंट पहाड़ तले।।

7 Likes · 182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
Dr. Kishan Karigar
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कारण कोई बतायेगा
कारण कोई बतायेगा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
कवि दीपक बवेजा
आ जाओ घर साजना
आ जाओ घर साजना
लक्ष्मी सिंह
देश-विक्रेता
देश-विक्रेता
Shekhar Chandra Mitra
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
अद्भुद भारत देश
अद्भुद भारत देश
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कौन कितने पानी में
कौन कितने पानी में
Mukesh Jeevanand
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
हे🙏जगदीश्वर आ घरती पर🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
Poonam Matia
*हिंदी दिवस*
*हिंदी दिवस*
Atul Mishra
गैस कांड की बरसी
गैस कांड की बरसी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसकी किसकी कैसी फितरत
किसकी किसकी कैसी फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
*लक्ष्मण (कुंडलिया)*
*लक्ष्मण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
⚜️गुरु और शिक्षक⚜️
⚜️गुरु और शिक्षक⚜️
SPK Sachin Lodhi
सारी जिंदगी कुछ लोगों
सारी जिंदगी कुछ लोगों
shabina. Naaz
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
चांद से सवाल
चांद से सवाल
Nanki Patre
Loading...