Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2022 · 1 min read

अस्तित्व

लौ की क्या क़ीमत
जो बाती न जली होती
बाती का क्या मूल्य
जो दीये की ओट न मिलती
दीये का क्या अस्तित्व
माटी जो न पकी होती
माटी का क्या मोल
धरा की कोख में जो न पलती

और धरा निरंतर लड़ रही लड़ाई
अपने अस्तित्व की व्यक्तित्व की
तुमसे मुझसे हम सब से
जैसे लड़ रहे लौ बाती दिया माटी
तुम हम सारी परिपाटी
अपने अपने अस्तित्व के लिए
क़ीमत मोल व्यक्तित्व के लिए
तुमसे हमसे हम सब से

रेखांकन।रेखा ड्रोलिया

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
हनुमंत लाल बैठे चरणों में देखें प्रभु की प्रभुताई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
"मेला"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
Yash mehra
2261.
2261.
Dr.Khedu Bharti
सबक
सबक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
" जीवन है गतिमान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
शिक्षा दान
शिक्षा दान
Paras Nath Jha
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हालात और मुकद्दर का
हालात और मुकद्दर का
Dr fauzia Naseem shad
उम्र के इस पडाव
उम्र के इस पडाव
Bodhisatva kastooriya
कुडा/ करकट का संदेश
कुडा/ करकट का संदेश
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
क्यों प्यार है तुमसे इतना
क्यों प्यार है तुमसे इतना
gurudeenverma198
जिंदगी में किसी से अपनी तुलना मत करो
जिंदगी में किसी से अपनी तुलना मत करो
Swati
होली (विरह)
होली (विरह)
लक्ष्मी सिंह
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
इक तुम्हारा ही तसव्वुर था।
इक तुम्हारा ही तसव्वुर था।
Taj Mohammad
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मुझे तरक्की की तरफ मुड़ने दो,
मुझे तरक्की की तरफ मुड़ने दो,
Satish Srijan
Loading...