Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2023 · 1 min read

नववर्ष पर आप भी खुश हो लीजिए

नववर्ष पर आप खुश हो लीजिए
************
आइए!हम भी नववर्ष की खुशियों में डूब जायें
अपनी परंपरा अपने संस्कार को ठेंगा दिखाएं
और बड़ी बेशर्मी से नववर्ष का हुड़दंग मचाएं
अपने नववर्ष का तो हमें भान भी नहीं होता
अंग्रेज़ी नववर्ष पर खूब नाचें, गाएं,इठलाएं।
अपनी तो कोई गरिमा या स्वाभिमान नहीं है
गैरों ने जो लकीर खींच दी बस वो ही अपना मार्ग है।
जन्मदिन पर केक काटकर हम बड़ा खुश होते हैं।
मां बाप और बड़ों का पैर छू आशीर्वाद लेने में शर्माते हैं
आधुनिकता की आड़ ले वैलेंटाइन डे मनाते हैं
फुहड़ता का नंगा नाच बड़े गर्व से दिखाते हैं।
बड़ा दिन की समझ भला है अब कितने लोगों को
अब तो क्रिसमस डे मनाते और अपने बच्चों को
सेंटाक्लाज के किस्से कारनामे सुनाते हैं
हम बहुत आधुनिक हो गए हैं भाई बहनों,
अपने मां बाप हमें अब गंवार लगने लगे हैं।
चैत्रमासी सनातन हिन्दू नववर्ष हम क्या जानें
आप कुछ भी कहो, हम तो अंग्रेजी नववर्ष ही मनाएंगे।
अपनी संस्कृति, सभ्यता और परंपराओं का
खुल्लम खुल्ला बेशर्मी से मज़ाक उड़ाएंगे
आधी रात को खूब नाचेंगे हुड़दंग मचाएंगे
अपने आपको मुंह चिढ़ाएंगे और ज़श्न मनाएंगे।
कथित नववर्ष की मेरी भी शुभकामना ले लीजिए
भगवान आपका भला करें, आप खुश हो लीजिए।

सुधीर श्रीवास्तव
गोण्डा उत्तर प्रदेश
८११५२८५९२१
© मौलिक स्वरचित

1 Like · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
हां मैं इक तरफ खड़ा हूं, दिल में कोई कश्मकश नहीं है।
Sanjay ' शून्य'
ज़िन्दगी भर ज़िन्दगी को ढूँढते हुए जो ज़िन्दगी कट गई,
ज़िन्दगी भर ज़िन्दगी को ढूँढते हुए जो ज़िन्दगी कट गई,
Vedkanti bhaskar
मेरा कल! कैसा है रे तू
मेरा कल! कैसा है रे तू
Arun Prasad
#शुभ_दीपोत्सव
#शुभ_दीपोत्सव
*प्रणय प्रभात*
आज़ मैंने फिर सादगी को बड़े क़रीब से देखा,
आज़ मैंने फिर सादगी को बड़े क़रीब से देखा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मित्रता:समाने शोभते प्रीति।
मित्रता:समाने शोभते प्रीति।
Acharya Rama Nand Mandal
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
Dr. Upasana Pandey
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
Dr. Man Mohan Krishna
"वक्त के गर्त से"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
Phool gufran
इसके सिवा क्या तुमसे कहे
इसके सिवा क्या तुमसे कहे
gurudeenverma198
मैं अकेली हूँ...
मैं अकेली हूँ...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
वो जो कहें
वो जो कहें
shabina. Naaz
*
*"बसंत पंचमी"*
Shashi kala vyas
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
Paras Nath Jha
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
खरा इंसान
खरा इंसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
जीवन
जीवन
sushil sarna
कोई हमारे लिए जब तक ही खास होता है
कोई हमारे लिए जब तक ही खास होता है
रुचि शर्मा
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (हास्य कुंडलिया)
खाया रसगुल्ला बड़ा , एक जलेबा गर्म (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...