Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2023 · 1 min read

अरमान गिर पड़े थे राहों में

अरमान गिर पड़े थे राहों में
किसी ने उठा के टोका…..
के ये तुम्हारा तो नहीं??
-सिद्धार्थ

132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#अद्भुत_संस्मरण
#अद्भुत_संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
जिनके नौ बच्चे हुए, दसवाँ है तैयार(कुंडलिया )
जिनके नौ बच्चे हुए, दसवाँ है तैयार(कुंडलिया )
Ravi Prakash
जाते हो.....❤️
जाते हो.....❤️
Srishty Bansal
सावन मंजूषा
सावन मंजूषा
Arti Bhadauria
जय माँ कालरात्रि 🙏
जय माँ कालरात्रि 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी की सड़क पर हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
दर्द-ए-सितम
दर्द-ए-सितम
Dr. Sunita Singh
भारत माँ के वीर सपूत
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
दिल की बातें
दिल की बातें
Ritu Asooja
कितना
कितना
Santosh Shrivastava
छल
छल
गौरव बाबा
तन्हाई में अपनी
तन्हाई में अपनी
हिमांशु Kulshrestha
गुरुकुल शिक्षा पद्धति
गुरुकुल शिक्षा पद्धति
विजय कुमार अग्रवाल
*** तस्वीर....!!! ***
*** तस्वीर....!!! ***
VEDANTA PATEL
*वो खफ़ा  हम  से इस कदर*
*वो खफ़ा हम से इस कदर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
अनचाहे फूल
अनचाहे फूल
SATPAL CHAUHAN
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
चूहा भी इसलिए मरता है
चूहा भी इसलिए मरता है
शेखर सिंह
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
*उधो मन न भये दस बीस*
*उधो मन न भये दस बीस*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पश्चाताप का खजाना
पश्चाताप का खजाना
अशोक कुमार ढोरिया
!! उमंग !!
!! उमंग !!
Akash Yadav
2795. *पूर्णिका*
2795. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल की पुकार है _
दिल की पुकार है _
Rajesh vyas
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
Manisha Manjari
Loading...