Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Sep 2021 · 1 min read

अभिनन्दन गीत

अभिनंदन गीत
==========
वन्दन है श्रीमान आपका
अभिनंदन श्रीमान
आपके आने से बढ़ता है
हम सबका सम्मान
वन्दन है श्रीमान……..
आपके आने से महफिल में
चमके चांद- सितारे से
आपके आने से पहले के
पल थे हारे -हारे से
कदम आपके पड़ते ही
बढ़ता है स्वाभिमान
वन्दन है श्रीमान……
रूठी- रूठी सी थी खुशबू
जब तक तुम ना आए थे
खुशियों की अंजुमन ने भी
गीत कोई ना गाए थे
देख आपको पुलकित मन का
बढ़ने लगा अभिमान
वन्दन है श्रीमान…….
आज की ये खुशियों की बेला
नाम तुम्हारे लिख डाली
आपके आने से भर गई है
जगह जो थी खाली- खाली
आंखों के सागर में तुम हो
होठों पर तुम्हारा गान
वन्दन है श्रीमान…….।।।
=======
गीतकार
डॉ. नरेश कुमार “सागर”

Language: Hindi
Tag: गीत
618 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इस कदर आज के ज़माने में बढ़ गई है ये महगाई।
इस कदर आज के ज़माने में बढ़ गई है ये महगाई।
शेखर सिंह
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
*औपचारिकता*
*औपचारिकता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
महसूस करो
महसूस करो
Dr fauzia Naseem shad
गंणतंत्रदिवस
गंणतंत्रदिवस
Bodhisatva kastooriya
#ॐ_नमः_शिवाय
#ॐ_नमः_शिवाय
*प्रणय प्रभात*
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
VINOD CHAUHAN
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
कवि दीपक बवेजा
2797. *पूर्णिका*
2797. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लोगो खामोश रहो
लोगो खामोश रहो
Surinder blackpen
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
चाहत
चाहत
Sûrëkhâ
Dear Moon.......
Dear Moon.......
R. H. SRIDEVI
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
gurudeenverma198
योग
योग
लक्ष्मी सिंह
हिन्दी की दशा
हिन्दी की दशा
श्याम लाल धानिया
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
ऊपर बैठा नील गगन में भाग्य सभी का लिखता है
Anil Mishra Prahari
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
ছায়া যুদ্ধ
ছায়া যুদ্ধ
Otteri Selvakumar
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
दोस्ती.......
दोस्ती.......
Harminder Kaur
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
विषधर
विषधर
Rajesh
"बन्धन"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...