Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

#अब_यादों_में

#अब_यादों_में…
■ डॉ. राहत इंदौरी और में : नुमाइंदा शेरों के साथ
【प्रणय प्रभात】
“समन्दरों में मुआफ़िक हवा चलाता है।
जहाज़ ख़ुद नहीं चलते ख़ुदा चलाता है।।
हम अपने बूढ़े चराग़ों पे ख़ूब इतराए।
और उसको भूल गए जो हवा चलाता है।।”
#डॉ_राहत_इंदौरी
“पढ़े या ना पढ़े कोई मगर जज़्बात लिखते हैं।
सबक़ लम्हों से लेते हैं तो सच हर बात लिखते हैं।।
उबल कर के लहू जब अश्क़ में तब्दील होता है।
घटा के आँचलों पे दिलजले बरसात लिखते हैं।।”
#प्रणय_प्रभात

1 Like · 276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दिल से बहुत बधाई है पोते के जन्म पर।
दिल से बहुत बधाई है पोते के जन्म पर।
सत्य कुमार प्रेमी
मत बांटो इंसान को
मत बांटो इंसान को
विमला महरिया मौज
हमारा दिल।
हमारा दिल।
Taj Mohammad
कुछ फ़क़त आतिश-ए-रंज़िश में लगे रहते हैं
कुछ फ़क़त आतिश-ए-रंज़िश में लगे रहते हैं
Anis Shah
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
लिखना चाहूँ  अपनी बातें ,  कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
लिखना चाहूँ अपनी बातें , कोई नहीं इसको पढ़ता है ! बातें कह
DrLakshman Jha Parimal
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
श्री राम के आदर्श
श्री राम के आदर्श
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"सूदखोरी"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा पंचक. . . मकरंद
दोहा पंचक. . . मकरंद
sushil sarna
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"बचपन"
Tanveer Chouhan
2928.*पूर्णिका*
2928.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
हवाओं का मिज़ाज जो पहले था वही रहा
Maroof aalam
बुली
बुली
Shashi Mahajan
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
तब गाँव हमे अपनाता है
तब गाँव हमे अपनाता है
संजय कुमार संजू
सूरज को
सूरज को
surenderpal vaidya
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
बड़े महंगे महगे किरदार है मेरे जिन्दगी में l
Ranjeet kumar patre
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हे भगवान तुम इन औरतों को  ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
हे भगवान तुम इन औरतों को ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
Dr. Man Mohan Krishna
परिवार का सत्यानाश
परिवार का सत्यानाश
पूर्वार्थ
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
Shashi kala vyas
मन मेरा क्यों उदास है.....!
मन मेरा क्यों उदास है.....!
VEDANTA PATEL
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
सारा सिस्टम गलत है
सारा सिस्टम गलत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...