Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2023 · 1 min read

अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,

अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
साहब

मैं पैसों से कमज़ोर हूं,
इसका एहसास ये पहले कराते है…

जलता हूं,सुनता हूं, फिर भी रूका नही हूं …
उनकी ख्वाहिशों के लिए….

252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार करने वाले
प्यार करने वाले
Pratibha Pandey
कथनी और करनी में अंतर
कथनी और करनी में अंतर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
23/99.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/99.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
साए
साए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
__________________
__________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
शिक्षक दिवस पर गुरुवृंद जनों को समर्पित
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
क्यों तुम उदास होती हो...
क्यों तुम उदास होती हो...
Er. Sanjay Shrivastava
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
मुझे तुम
मुझे तुम
Dr fauzia Naseem shad
अंदर का चोर
अंदर का चोर
Shyam Sundar Subramanian
भेड़ चालों का रटन हुआ
भेड़ चालों का रटन हुआ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"किताब और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
■ क्यों ना उठे सवाल...?
■ क्यों ना उठे सवाल...?
*Author प्रणय प्रभात*
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
वो तो शहर से आए थे
वो तो शहर से आए थे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां गोदी का आसन स्वर्ग सिंहासन💺
मां गोदी का आसन स्वर्ग सिंहासन💺
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
नन्ही मिष्ठी
नन्ही मिष्ठी
Manu Vashistha
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
काम और भी है, जिंदगी में बहुत
gurudeenverma198
हुआ अच्छा कि मजनूँ
हुआ अच्छा कि मजनूँ
Satish Srijan
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
_सुलेखा.
बुद्ध के बदले युद्ध
बुद्ध के बदले युद्ध
Shekhar Chandra Mitra
वासना और करुणा
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
रेलगाड़ी
रेलगाड़ी
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
प्रदीप कुमार गुप्ता
हाँ ये सच है कि मैं उससे प्यार करता हूँ
हाँ ये सच है कि मैं उससे प्यार करता हूँ
Dr. Man Mohan Krishna
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
Aarti sirsat
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
Dushyant Kumar
ईमान
ईमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...