Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2024 · 1 min read

अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने

अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
अपनी ही बाजुओं पर सर रखा है

अपने ही कांधे पर टिकाए हैं आंसू
अपनी ही अंजुलियो में रश्क़ भरा है

अपने ही माथे को चूमा है हवा बन
अपने ही लबों पर अंगार रखे हैं

अपने ही हाथों से बांधी हैं पायलें
अपने ही पते पर खत लिखा है

#विरह

100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
Rituraj shivem verma
ना तो हमारी तरह तुम्हें कोई प्रेमी मिलेगा,
ना तो हमारी तरह तुम्हें कोई प्रेमी मिलेगा,
Dr. Man Mohan Krishna
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
Anand.sharma
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
एक एक ईट जोड़कर मजदूर घर बनाता है
एक एक ईट जोड़कर मजदूर घर बनाता है
प्रेमदास वसु सुरेखा
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
VEDANTA PATEL
हमसफर
हमसफर
लक्ष्मी सिंह
कितने भारत
कितने भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
मौहब्बत अक्स है तेरा इबादत तुझको करनी है ।
Phool gufran
विश्व कप-2023 फाइनल सुर्खियां
विश्व कप-2023 फाइनल सुर्खियां
दुष्यन्त 'बाबा'
Girvi rakh ke khud ke ashiyano ko
Girvi rakh ke khud ke ashiyano ko
Sakshi Tripathi
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
Bhupendra Rawat
नाजायज इश्क
नाजायज इश्क
RAKESH RAKESH
ज़िन्दगी के
ज़िन्दगी के
Santosh Shrivastava
हम लड़के हैं जनाब...
हम लड़के हैं जनाब...
पूर्वार्थ
मैं तो महज आईना हूँ
मैं तो महज आईना हूँ
VINOD CHAUHAN
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
बितियाँ बात सुण लेना
बितियाँ बात सुण लेना
Anil chobisa
मन
मन
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"ढोंग-पसंद रियासत
*Author प्रणय प्रभात*
"नश्वर"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" तुम्हारी जुदाई में "
Aarti sirsat
सामाजिक न्याय के प्रश्न
सामाजिक न्याय के प्रश्न
Shekhar Chandra Mitra
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
sushil sarna
Loading...