Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ

अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
हर सजा की मैं हक़दार हो गई हूँ
तमाम उम्र नहीं देखूंगी ख़ुद को आईने में
ऐ ख़ुदा! मैं इतनी दागदार हो गई हूँ
– Trishika S Dhara

2 Likes · 238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Trishika S Dhara
View all
You may also like:
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
You relax on a plane, even though you don't know the pilot.
पूर्वार्थ
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
Neerja Sharma
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
❤️सिर्फ़ तुझे ही पाया है❤️
Srishty Bansal
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
(2) ऐ ह्रदय ! तू गगन बन जा !
Kishore Nigam
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
Ravi Prakash
जन्म नही कर्म प्रधान
जन्म नही कर्म प्रधान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्री वेडिंग की आँधी
प्री वेडिंग की आँधी
Anil chobisa
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
चांद पर चंद्रयान, जय जय हिंदुस्तान
Vinod Patel
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
मेरी आंखों में कोई
मेरी आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-521💐
💐प्रेम कौतुक-521💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*तेरे इंतज़ार में*
*तेरे इंतज़ार में*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शृंगारिक अभिलेखन
शृंगारिक अभिलेखन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धड़कूँगा फिर तो पत्थर में भी शायद
धड़कूँगा फिर तो पत्थर में भी शायद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
2899.*पूर्णिका*
2899.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी एक किराये का घर है।
जिंदगी एक किराये का घर है।
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
हरसिंगार
हरसिंगार
Shweta Soni
नारी
नारी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
Anil Mishra Prahari
" ख्वाबों का सफर "
Pushpraj Anant
A setback is,
A setback is,
Dhriti Mishra
रिश्ते
रिश्ते
Shutisha Rajput
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
फागुन
फागुन
पंकज कुमार कर्ण
■ बात बात में बन गया शेर। 😊
■ बात बात में बन गया शेर। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
**बात बनते बनते बिगड़ गई**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"लाइलाज"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...