Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

अपनापन

अपनापन
“””””
“आज सुबह जब मैं आज मार्केट के लिए निकल रहा था, तब तो हमारे दोनों भानजों में घमासान लड़ाई हो रही थी और अभी एक साथ बड़े मजे से खाना खा रहे हैं। आखिर ये चमत्कार हुआ कैसे ?” आश्चर्यचकित रमेश ने पूछा।
“साले साहब, हमने अपने घर में एक नियम बना रखा है, जब भी कोई वाद-विवाद हो, तो भोजन के समय तक सुलह भी हो जाए, वरना खाना नहीं मिलेगा।” जीजाजी ने मुस्कुराते हुए बताया।
“अरे वाह, ये तो बहुत ही अच्छी बात है जीजाजी। यदि कभी आपके और दीदी के बीच कुछ अनबन हो, तो भी क्या यही नियम लागू होता है।” रमेश ने मजाकिया अंदाज में पूछा।
“बिल्कुल, वैसे तो मैं तुम्हारी दीदी से कभी पंगा लेने की जुर्रत नहीं करता, फिर भी कभी कुछ अनबन हो जाती है, तो बहुधा मैं ही भोजन से पहले माफी मांग कर लफड़ा खत्म कर देता हूँ।” जीजाजी ने हँसते हुए कहा।
दीदी कनखियों से देखकर मुसकरा रही थीं।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"प्यार की कहानी "
Pushpraj Anant
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr.Priya Soni Khare
*मधु मालती*
*मधु मालती*
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
Sanjay ' शून्य'
रेल यात्रा संस्मरण
रेल यात्रा संस्मरण
Prakash Chandra
🙅Dont Worry🙅
🙅Dont Worry🙅
*प्रणय प्रभात*
प्रीत को अनचुभन रीत हो,
प्रीत को अनचुभन रीत हो,
पं अंजू पांडेय अश्रु
दगा और बफा़
दगा और बफा़
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
शिव छन्द
शिव छन्द
Neelam Sharma
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नौकरी (१)
नौकरी (१)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
शाकाहारी
शाकाहारी
डिजेन्द्र कुर्रे
9) खबर है इनकार तेरा
9) खबर है इनकार तेरा
पूनम झा 'प्रथमा'
जीवन पुष्प की बगिया
जीवन पुष्प की बगिया
Buddha Prakash
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
संसार एक जाल
संसार एक जाल
Mukesh Kumar Sonkar
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
असर
असर
Shyam Sundar Subramanian
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
शीर्षक - सोच और उम्र
शीर्षक - सोच और उम्र
Neeraj Agarwal
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
दिलाओ याद मत अब मुझको, गुजरा मेरा अतीत तुम
gurudeenverma198
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
Paras Nath Jha
"आत्ममुग्धता"
Dr. Kishan tandon kranti
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
आर.एस. 'प्रीतम'
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
कैसी होती हैं
कैसी होती हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...