Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2023 · 2 min read

अनजान लड़का

मम्मी,”कई दिनों से पापा सुबह ही बाहर कहाँ चले जाते हैं? रात को भी बहुत देर से लौटते हैं?” अनुभूति ने अपनी माँ से पूछा।
“जाएँगे कहाँ? एक बाप का फर्ज निभाना है। जाना तो पड़ेगा। लड़का कोई घर में बैठे-बैठे तो मिल नहीं जाएगा? खोजना पड़ता है, घर-परिवार और खानदान का पता लगाना पड़ता है।”
अब अनुभूति को समझ आया कि उसके पिता जी उसकी शादी करने के लिए योग्य वर की तलाश कर रहे हैं। वर की तलाश ऐसे तो पूर्ण होती नहीं है। उसके लिए तो जूते घिसने पड़ते हैं। जैसे आजकल के लड़कों को नौकरी की तलाश करने के लिए एक ऑफिस से दूसरे ऑफिस के चक्कर काटते हैं और जूते घिसते रहते हैं।
अभी कुछ दिन पहले ही जब अनुभूति को उसकी माँ ने फोन पर किसी लड़के से बात करते सुना था तो कहा था, “बेटा अनजान लड़कों से बात नहीं करते।हमारे खानदान की समाज में कुछ इज्ज़त है।”
“नहीं मम्मी, व्यापक हमारे साथ काॅलेज में पढ़ता था और बहुत अच्छा लड़का है।”
“वह तो ठीक है, पर है तो अनजान ही। तुम उसके घर परिवार के विषय में कुछ जानती हो? नहीं न।”
“मम्मी जैसा आप सोच रही हैं, वैसा कुछ भी नहीं है। हम बस अच्छे दोस्त हैं।”
बस, उसी दिन से अनुभूति की मम्मी ने उसके पापा को शादी के लिए लड़का खोजने के काम पर लगा दिया था।
अनुभूति ने जब अपनी शादी के लिए लड़का खोजने वाली बात माँ से सुनी तो उसने कहा- “मम्मी आप मुझे अनजान लड़के से बात करने से मना कर रही थीं और आज आप ही एक अनजान लड़के के साथ मुझे भेजने की तैयारी कर रही हैं। जब अनजान लड़के से बातचीत करना बुरा है तो शादी करना कहाँ तक उचित होगा।”
अनुभूति की माँ को उसकी बात सुनकर अपनी गलती का अहसास तो हुआ पर उन्होंने उसकी बात का कोई उत्तर नहीं दिया।
अनुभूति सोचती है, माँ-बाप बनी-बनाई लीक पर ही चलना क्यों पसंद करते हैं ? लड़कों की इच्छा-अनिच्छा उनके लिए मायने रखती है लेकिन लड़कियों की नहीं।आखिर कब आएगा बदलाव लड़कियों के जीवन में।
डाॅ बिपिन पाण्डेय

Language: Hindi
1 Comment · 174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
बड़ा हिज्र -हिज्र करता है तू ,
Rohit yadav
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
Don't Give Up..
Don't Give Up..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
I am a little boy
I am a little boy
Rajan Sharma
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
शब्द -शब्द था बोलता,
शब्द -शब्द था बोलता,
sushil sarna
बहुत ही हसीन तू है खूबसूरत
बहुत ही हसीन तू है खूबसूरत
gurudeenverma198
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पलक-पाँवड़े
पलक-पाँवड़े
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बूढ़ा बापू
बूढ़ा बापू
Madhu Shah
2888.*पूर्णिका*
2888.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*राम हमारे मन के अंदर, बसे हुए भगवान हैं (हिंदी गजल)*
*राम हमारे मन के अंदर, बसे हुए भगवान हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
छोड़ कर तुम मुझे किधर जाओगे
छोड़ कर तुम मुझे किधर जाओगे
Anil chobisa
जीव कहे अविनाशी
जीव कहे अविनाशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"कौआ"
Dr. Kishan tandon kranti
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
घूँघट के पार
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
अच्छा इंसान
अच्छा इंसान
Dr fauzia Naseem shad
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
* प्रभु राम के *
* प्रभु राम के *
surenderpal vaidya
"" *दिनकर* "'
सुनीलानंद महंत
*हनुमान के राम*
*हनुमान के राम*
Kavita Chouhan
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
Mamta Singh Devaa
हम हैं कक्षा साथी
हम हैं कक्षा साथी
Dr MusafiR BaithA
Loading...