Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 2 min read

*अध्याय 2*

अध्याय 2
भतीजी का विवाह

दोहा

घर की नौका खे रहे, नाविक कुशल महान
एक तपश्चर्या-भरा, इसमें तत्व प्रधान
—————————————
1)
बड़ी हुई रुक्मिणि विवाह की चिंता घर में आई
लगे सोचने किस घर हो कन्या की मधुर विदाई
2)
वर सुयोग्य सर्राफे का व्यवसायी धनशाली था
नाम भिकारी लाल पूर्णतः दोषों से खाली था
3)
सुंदरलाल मुदित थे घर रुक्मिणि ने सुंदर पाया
जॉंचा-परखा देखा रिश्ता समझ ठीक ठहराया
4)
धूमधाम से कर विवाह दोनों निश्चिंत कहाए
सुंदर लाल-गिंदौड़ी देवी मानो तीर्थ नहाए
5)
छोटे भाई की आत्मा ने निश्चय ही सुख पाया
बेटी ब्याही देख गीत आत्मा तक ने है गाया
6)
धन्य-धन्य वह भाई जो भाई का भार मिटाते
धन्य भतीजी को बेटी से बढ़कर जो अपनाते
7)
बेटी ही थी, नहीं भतीजी कभी मान कर बोले
जब भी खोले द्वार हृदय के, पिता-तुल्य ही खोले
8)
सबसे बड़ा जगत में होता है कर्तव्य निभाना
ताऊ सुंदरलाल पिता ने भीतर तक यह जाना
9)
वह भाई जो जग में केवल अपने हित जीता है
भरें भले भंडार मगर वह सद्गुण से रीता है
10)
जग में श्रेष्ठ चरित्र वही जो औरों को अपनाता
जिसे भतीजी में बेटी, भाभी में दिखतीं माता
11)
ब्याह भतीजी का कर सुंदर लाल सदा हर्षाते
एक बड़ी जिम्मेदारी थी पूरी कर सुख पाते
12)
भरा और पूरा घर था, कन्या ने जो वर पाया
सभी तरह निर्दोष श्रेष्ठ कुल था हिस्से में आया
13)
बड़े भिकारी लाल, अनुज थे भूकन लाल कहाते
पिता स्वर्ग से रामसरन रह-रह आशीष लुटाते
14)
सास मिलीं श्रीमती कटोरी देवी ममता भरतीं
नववधु पर आशीष-प्यार सर्वदा लुटाया करतीं
15)
प्रथम हुई संतान सुकन्या नाम शांति रखवाया
नाना सुंदरलाल बने मन में असीम सुख पाया
16)
जो संतान दूसरी थी वह पुत्र-रूप में पाई
यह थे रामकुमार जगत में प्रतिभा शुभ दिखलाई
17)
बड़ा पुत्र ही घर का मुखिया नायक कहलाता है
सदा छत्रछाया में घर उसके पीछे आता है
18)
यह थे रामकुमार बड़प्पन जिनका कभी न छूटा
प्रथम पुत्र के कर्मों का क्रम जिनसे कभी न टूटा
—————————————
दोहा

जीवन की गति चल रही, सदा-सदा अविराम।
अवसर मिलते पुण्य के, इसमें भरे तमाम।।
—————————————
—————————————

63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
-- जिंदगी तो कट जायेगी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
भारत को आखिर फूटबौळ क्यों बना दिया ? ना पड़ोसियों के गोल पोस
भारत को आखिर फूटबौळ क्यों बना दिया ? ना पड़ोसियों के गोल पोस
DrLakshman Jha Parimal
#अपील-
#अपील-
*प्रणय प्रभात*
क्रिकेटी हार
क्रिकेटी हार
Sanjay ' शून्य'
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
चुप
चुप
Dr.Priya Soni Khare
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
Swara Kumari arya
*कड़वा बोल न बोलिए, कड़वी कहें न बात【कुंडलिया】*
*कड़वा बोल न बोलिए, कड़वी कहें न बात【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
विमला महरिया मौज
मासूमियत
मासूमियत
Surinder blackpen
नेता बनि के आवे मच्छर
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
द्रौपदी
द्रौपदी
SHAILESH MOHAN
गीत - इस विरह की वेदना का
गीत - इस विरह की वेदना का
Sukeshini Budhawne
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
3188.*पूर्णिका*
3188.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
Mahender Singh
माँ जन्मदात्री , तो पिता पालन हर है
माँ जन्मदात्री , तो पिता पालन हर है
Neeraj Mishra " नीर "
जरूरी बहुत
जरूरी बहुत
surenderpal vaidya
दौर - ए - कश्मकश
दौर - ए - कश्मकश
Shyam Sundar Subramanian
तू  मेरी जान तू ही जिंदगी बन गई
तू मेरी जान तू ही जिंदगी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
पता पुष्प का दे रहे,
पता पुष्प का दे रहे,
sushil sarna
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
सत्य कुमार प्रेमी
" कू कू "
Dr Meenu Poonia
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
आप ही बदल गए
आप ही बदल गए
Pratibha Pandey
बेबसी!
बेबसी!
कविता झा ‘गीत’
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
Loading...