Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2023 · 1 min read

अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना

अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना, मैं कामयाब हूँ तेरे बिना।
वैसे भी तू मेरे काबिल नहीं, नाकाम नहीं मैं तेरे बिना।।
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना—————–।।

अपने को तू खुशनसीब समझ।
मुझको गुलाम तू ना समझ।।
दिल जो अपना माना तुम्हें।
प्यार मैंने किया जो तुम्हें।।
गुस्सा मगर क्यों आया तुम्हें।
तेरे लबों को जब छुआ मैंने।।
फिर भी मैं उम्दा हूँ तेरे बिना।
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना————-।।

माना था मैंने पवित्र तुझे।
होगा इतना घमंड भी तुझे।।
जबकि तेरी हस्ती कुछ भी नहीं।
इज्जत तेरी यहाँ कुछ भी नहीं।।
तुमको हुई है गलतफहमी क्या।
कमजोर क्यों मुझको माना तूने।।
इज्जत मेरी है बहुत तेरी बिना।
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना————।।

सुखी नहीं होगी तू मेरी तरहां।
पूजेंगे नहीं तुमको मेरी तरहां।।
नहीं होंगे पूरे अरमान तेरे।
नहीं होंगे रोशन सितारें तेरे।।
क्या सोच मुझको नकार दिया है।
बेचेगी तू हुस्न एक दिन अपना।।
बहुत मेरे प्रेमी है तेरे बिना।
अधूरा नहीं हूँ मैं तेरे बिना————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
277 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहां गए वे शायर?
कहां गए वे शायर?
Shekhar Chandra Mitra
दोहा त्रयी. . . . .
दोहा त्रयी. . . . .
sushil sarna
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
तेरी नादाँ समझ को समझा दे अभी मैं ख़ाक हुवा नहीं
तेरी नादाँ समझ को समझा दे अभी मैं ख़ाक हुवा नहीं
'अशांत' शेखर
नित्य प्रार्थना
नित्य प्रार्थना
Dr.Pratibha Prakash
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
चंडीगढ़ का रॉक गार्डेन
Satish Srijan
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
मैं खंडहर हो गया पर तुम ना मेरी याद से निकले
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुदरत मुझको रंग दे
कुदरत मुझको रंग दे
Gurdeep Saggu
"दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नौकरी वाली बीबी
नौकरी वाली बीबी
Rajni kapoor
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फितरत इंसान की....
फितरत इंसान की....
Tarun Singh Pawar
#दोहा (आस्था)
#दोहा (आस्था)
*Author प्रणय प्रभात*
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
कवि रमेशराज
नजरिया
नजरिया
नेताम आर सी
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
अभिमान
अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधीर मन
अधीर मन
manisha
फूल भी हम सबको जीवन देते हैं।
फूल भी हम सबको जीवन देते हैं।
Neeraj Agarwal
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*शादी की जो आयु थी, अब पढ़ने की आयु (कुंडलिया)*
*शादी की जो आयु थी, अब पढ़ने की आयु (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
Loading...