Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 1 min read

अधिकांश लोग बोल कर

अधिकांश लोग बोल कर
“प्रतिरोध” करते हैं और
कुछ लोग लिख कर।
जो स्थाई होता है।

👌प्रणय प्रभात👌

1 Like · 339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल कि आवाज
दिल कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नहीं मैं -गजल
नहीं मैं -गजल
Dr Mukesh 'Aseemit'
9) “जीवन एक सफ़र”
9) “जीवन एक सफ़र”
Sapna Arora
सरस रंग
सरस रंग
Punam Pande
कुदरत और भाग्य......एक सच
कुदरत और भाग्य......एक सच
Neeraj Agarwal
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
Phool gufran
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
"जागो"
Dr. Kishan tandon kranti
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
Pratibha Pandey
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम गजब है
प्रेम गजब है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जीवन
जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
कभी
कभी
हिमांशु Kulshrestha
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
मैं कभी किसी के इश्क़ में गिरफ़्तार नहीं हो सकता
Manoj Mahato
जो खत हीर को रांझा जैसे न होंगे।
जो खत हीर को रांझा जैसे न होंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
*** चल अकेला.....!!! ***
*** चल अकेला.....!!! ***
VEDANTA PATEL
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
सच्चे प्रेम का कोई विकल्प नहीं होता.
सच्चे प्रेम का कोई विकल्प नहीं होता.
शेखर सिंह
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
Anand Kumar
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इस आकाश में अनगिनत तारे हैं
इस आकाश में अनगिनत तारे हैं
Sonam Puneet Dubey
**कुछ तो कहो**
**कुछ तो कहो**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ऐसा कभी नही होगा
ऐसा कभी नही होगा
gurudeenverma198
फोन नंबर
फोन नंबर
पूर्वार्थ
माँ
माँ
Harminder Kaur
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
Satya Prakash Sharma
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
उसका होना उजास बन के फैल जाता है
Shweta Soni
2503.पूर्णिका
2503.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...