Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2016 · 1 min read

अकेलापन

लोग कहते है अकेलेपन में वीरानापन महसूस होता है !
कमबख्त एक अपना दिल है अकेले में झगड़ता बहुत है !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ

Language: Hindi
Tag: शेर
273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
Shubham Pandey (S P)
चाय की चुस्की संग
चाय की चुस्की संग
Surinder blackpen
और तुम कहते हो मुझसे
और तुम कहते हो मुझसे
gurudeenverma198
आज फिर उनकी याद आई है,
आज फिर उनकी याद आई है,
Yogini kajol Pathak
मात्र एक पल
मात्र एक पल
Ajay Mishra
ग़ज़ल _ तुम नींद में खोये हो ।
ग़ज़ल _ तुम नींद में खोये हो ।
Neelofar Khan
3553.💐 *पूर्णिका* 💐
3553.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
नदी की करुण पुकार
नदी की करुण पुकार
Anil Kumar Mishra
*बच्चों को ले घूमते, मॅंगवाते हैं भीख (कुंडलिया)*
*बच्चों को ले घूमते, मॅंगवाते हैं भीख (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उनको घरों में भी सीलन आती है,
उनको घरों में भी सीलन आती है,
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
पास अपने
पास अपने
Dr fauzia Naseem shad
आंसू तुम्हे सुखाने होंगे।
आंसू तुम्हे सुखाने होंगे।
Kumar Kalhans
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"आज का दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
Manju sagar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्या हुआ की हम हार गए ।
क्या हुआ की हम हार गए ।
Ashwini sharma
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
योग्यताएं
योग्यताएं
उमेश बैरवा
कर्म कांड से बचते बचाते.
कर्म कांड से बचते बचाते.
Mahender Singh
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उसको, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
!! मैं उसको ढूंढ रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
मैं फकीर ही सही हूं
मैं फकीर ही सही हूं
Umender kumar
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
Sunil Maheshwari
*पछतावा*
*पछतावा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
इल्तिजा
इल्तिजा
Bodhisatva kastooriya
Loading...