Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Dec 2023 · 1 min read

अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता…

अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता…
उजाले आए तो दीवलो में गया रास्ता

रास्तों में रास्ते मिले बहुत मगर ……..
मंजिल ही ना मिल सके तो क्या रास्ता

✍️Deepak saral

1 Like · 157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मां की याद
मां की याद
Neeraj Agarwal
3168.*पूर्णिका*
3168.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एकाकीपन
एकाकीपन
Shyam Sundar Subramanian
🎊🎉चलो आज पतंग उड़ाने
🎊🎉चलो आज पतंग उड़ाने
Shashi kala vyas
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
ruby kumari
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
हम
हम
Ankit Kumar
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
"लावा सी"
Dr. Kishan tandon kranti
कालजयी रचनाकार
कालजयी रचनाकार
Shekhar Chandra Mitra
रंग भरी पिचकारियाँ,
रंग भरी पिचकारियाँ,
sushil sarna
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )
मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )
VINOD CHAUHAN
25 , *दशहरा*
25 , *दशहरा*
Dr Shweta sood
*मुहब्बत के मोती*
*मुहब्बत के मोती*
आर.एस. 'प्रीतम'
*बेचारे वरिष्ठ नागरिक (हास्य व्यंग्य)*
*बेचारे वरिष्ठ नागरिक (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
Manisha Manjari
Mystical Love
Mystical Love
Sidhartha Mishra
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
We become more honest and vocal when we are physically tired
We become more honest and vocal when we are physically tired
पूर्वार्थ
बीड़ी की बास
बीड़ी की बास
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
इंसान इंसानियत को निगल गया है
इंसान इंसानियत को निगल गया है
Bhupendra Rawat
गर्म दोपहर की ठंढी शाम हो तुम
गर्म दोपहर की ठंढी शाम हो तुम
Rituraj shivem verma
"ताले चाबी सा रखो,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छोड़ दूं क्या.....
छोड़ दूं क्या.....
Ravi Ghayal
Loading...