साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Neeraj Chauhan

Neeraj Chauhan
Posts 57
Total Views 5,602
कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

मुक्तक (11 Posts)


ना आँखों में मुझे सजाओं.. .

ना आँखों में मुझे सजाओं, मैं काजल सा ठहर जाऊंगा ना बातों में [...]

छलक पड़ती हो तुम कभी.. .

छलक पड़ती हो तुम कभी , एक कशिश छोड़ जाती हो भिगाती बारिशें हैं [...]

वजह तुम हो तन्हाई की.. .

वजह तुम हो तन्हाई की, मेरा त्यौहार तुम ही हो, भले मैं पैर का [...]

मिलता नही कभी भी, जिंदगी में कुछ मुकम्मल..

मिलता नही कभी भी, जिंदगी में कुछ मुकम्मल, कभी पाते भी हो, तो [...]

मिला हूँ जो तुझमे, तो तेरी छवि हो गया हूँ ..

मिला हूँ जो तुझमे, तो तेरी छवि हो गया हूँ ढलते उजालों का जैसे, [...]

फिल्मों वाले अपराधी !

फुटपाथों पर सोने वाले, आज खून के आंसू रोते, समझ गये हैं [...]

चुपके से निखरी रातों में. .

बिन बारिश के मौसम में, तेरा बरसना मुझे याद हैं उन दो कजरारी [...]

बिना मेरे अधूरी तुम..

मेरा हर सुर अधूरा हैं, अधूरी गीत की हर धुन, स्वप्न वो तुम नहीं [...]

कृष्ण मैं भी नहीं, राधा तुम भी नहीं..

कृष्ण मैं भी नहीं, राधा तुम भी नहीं, प्रेम फिर भी इबादत से, कम [...]

तुमसे मिलु मैं कुछ इस तरह…

तुमसे मिलु मैं कुछ इस तरह, की कोई मुझे आवाज़ ना दे, घुल जाउ [...]

ये जीवन भी क्या हैं?

ये जीवन भी क्या हैं, कभी उत्थान तो कभी पतन, कभी गूँज भरी [...]