Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2023 · 1 min read

Your heart is a Queen who runs by gesture of your mindset !

Your heart is a Queen who runs by gesture of your mindset !

2 Likes · 2 Comments · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
Sunita jauhari
2274.
2274.
Dr.Khedu Bharti
मेरी नन्ही परी।
मेरी नन्ही परी।
लक्ष्मी सिंह
मित्रता का मोल
मित्रता का मोल
DrLakshman Jha Parimal
समझदारी का न करे  ,
समझदारी का न करे ,
Pakhi Jain
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
Shyam Pandey
बापू तेरे देश में...!!
बापू तेरे देश में...!!
Kanchan Khanna
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
gurudeenverma198
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
💐अज्ञात के प्रति-40💐
💐अज्ञात के प्रति-40💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■रोज़ का ड्रामा■
■रोज़ का ड्रामा■
*Author प्रणय प्रभात*
"बेरंग शाम का नया सपना" (A New Dream on a Colorless Evening)
Sidhartha Mishra
बेबाक
बेबाक
Satish Srijan
एक दिन यह समय भी बदलेगा
एक दिन यह समय भी बदलेगा
कवि दीपक बवेजा
आँसू
आँसू
जगदीश लववंशी
मेरी राहों में ख़ार
मेरी राहों में ख़ार
Dr fauzia Naseem shad
आयी थी खुशियाँ, जिस दरवाजे से होकर, हाँ बैठी हूँ उसी दहलीज़ पर, रुसवा अपनों से मैं होकर।
आयी थी खुशियाँ, जिस दरवाजे से होकर, हाँ बैठी हूँ उसी दहलीज़ पर, रुसवा अपनों से मैं होकर।
Manisha Manjari
पिता !
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
*कैकेई (कुंडलिया)*
*कैकेई (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गोरी का झुमका
गोरी का झुमका
Surinder blackpen
कट्टरता बड़ा या मानवता
कट्टरता बड़ा या मानवता
राकेश कुमार राठौर
मेरी सफर शायरी
मेरी सफर शायरी
Ms.Ankit Halke jha
पिता की नियति
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
पंचशील गीत
पंचशील गीत
Buddha Prakash
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
Nishant prakhar
नारदीं भी हैं
नारदीं भी हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खुर्पेची
खुर्पेची
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
# शुभ - संध्या .......
# शुभ - संध्या .......
Chinta netam " मन "
Loading...