Sep 16, 2021 · 1 min read

You present hunger as festival

We are the people pushed to the lower notch.
Hunger is a tragedy before us.
Federalists,
You present hunger to yourself
Like a festival.
Damn the governance s!
We die of hunger.
——————————————————

169 Views
You may also like:
पिता
Kanchan Khanna
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H.
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पापा वो बचपन के
Khushboo Khatoon
प्रयास
Dr.sima
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
एक थे वशिष्ठ
Suraj Kushwaha
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr. Alpa H.
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
दर्द।
Taj Mohammad
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
गांव के घर में।
Taj Mohammad
चल अकेला
Vikas Sharma'Shivaaya'
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
Loading...