Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2022 · 1 min read

Writing Challenge- वर्तमान (Present)

आज का विषय है वर्तमान (Present)

इस विषय पर किसी भी भाषा में एक नयी कविता, कहानी या संस्मरण लिखिए।

अपनी पोस्ट में Daily Writing Challenge टैग अवश्य जोड़ें।

Daily Writing Challenge टैग की गयी हर रचना साहित्यपीडिया टीम द्वारा पढ़ी जाती है।

यह कोई प्रतियोगिता नहीं है। आपको लिखने की प्रेरणा देने के लिए हम हर दिन एक नया विषय लेकर आते हैं।

5 Likes · 205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आम्बेडकर मेरे मानसिक माँ / MUSAFIR BAITHA
आम्बेडकर मेरे मानसिक माँ / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
ruby kumari
सूरज का ताप
सूरज का ताप
Namita Gupta
पुकार!
पुकार!
कविता झा ‘गीत’
चेहरे पर अगर मुस्कुराहट हो
चेहरे पर अगर मुस्कुराहट हो
Paras Nath Jha
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
"आलिंगन"
Dr. Kishan tandon kranti
आज का महाभारत 1
आज का महाभारत 1
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमें
हमें
sushil sarna
गुज़ारिश है रब से,
गुज़ारिश है रब से,
Sunil Maheshwari
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
छू कर तेरे दिल को, ये एहसास हुआ है,
छू कर तेरे दिल को, ये एहसास हुआ है,
Rituraj shivem verma
बदनाम शराब
बदनाम शराब
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
■ भगवान भला करे वैज्ञानिकों का। 😊😊
■ भगवान भला करे वैज्ञानिकों का। 😊😊
*प्रणय प्रभात*
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
🇮🇳🇮🇳*
🇮🇳🇮🇳*"तिरंगा झंडा"* 🇮🇳🇮🇳
Shashi kala vyas
Good things fall apart so that the best can come together.
Good things fall apart so that the best can come together.
Manisha Manjari
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3317.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
"न टूटो न रुठो"
Yogendra Chaturwedi
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
दोहे
दोहे
गुमनाम 'बाबा'
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
आत्म अवलोकन कविता
आत्म अवलोकन कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...