Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2023 · 1 min read

Whenever My Heart finds Solitude

Whenever my heart finds solitude,
it calls her back to spend some time.
Make me to ramble with thoughts of her
All the memories just pass in a moment.
Loop of memories keep running all the time.
I loved her, and sometimes she loved me too.
She loved me, sometimes I loved her too.
The reason was anything, and now she is not with me.
I no longer love her, that’s certain, but maybe I love her.
My heart looks for her, wherever it finds solitude
Seems in solitude I become more self to self.
Love is so short, forgetting is so long.
Forgetting is so long.
At sudden
After years, I find her in front of me.
We looked into each other…
but no passion no charm.
Nothing was same like before.
Her eyes were still extremely beautiful,
but now not infinite for me.
bindings of Love are always natural;
it cannot be forced.
Time has nature to change,…but
Memories are precious and are forever in air.
Memories are beautiful and for forever with me.
whenever my heart finds solitude,
it calls her back to spend some time.

Language: English
Tag: Poem
2 Likes · 284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य की खोज
सत्य की खोज
लक्ष्मी सिंह
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
उदास रात सितारों ने मुझसे पूछ लिया,
Neelofar Khan
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सत्य कुमार प्रेमी
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
VINOD CHAUHAN
प्रेम की गहराई
प्रेम की गहराई
Dr Mukesh 'Aseemit'
My life's situation
My life's situation
Sukoon
मोहब्बत
मोहब्बत
निकेश कुमार ठाकुर
जब तू मिलती है
जब तू मिलती है
gurudeenverma198
हाइकु
हाइकु
अशोक कुमार ढोरिया
*आया फिर से देश में, नूतन आम चुनाव (कुंडलिया)*
*आया फिर से देश में, नूतन आम चुनाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अक्सर हम ऐसा सच चाहते है
अक्सर हम ऐसा सच चाहते है
शेखर सिंह
- मर चुकी इंसानियत -
- मर चुकी इंसानियत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
अफसाना किसी का
अफसाना किसी का
surenderpal vaidya
नारी का अस्तित्व
नारी का अस्तित्व
रेखा कापसे
ज़िंदगी के सवाल का
ज़िंदगी के सवाल का
Dr fauzia Naseem shad
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
Sanjay ' शून्य'
"आईने पे कहर"
Dr. Kishan tandon kranti
सबक
सबक
manjula chauhan
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
Shweta Soni
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
राहत का गुरु योग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मजदूर
मजदूर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
समाज को जगाने का काम करते रहो,
समाज को जगाने का काम करते रहो,
नेताम आर सी
नमन उस वीर को शत-शत...
नमन उस वीर को शत-शत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
23/126.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/126.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पागल
पागल
Sushil chauhan
दगा और बफा़
दगा और बफा़
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
"दीप जले"
Shashi kala vyas
Loading...