Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

When life serves you with surprises your planning sits at b

When life serves you with surprises your planning sits at back bench and gives you 😊

1 Like · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू भूल जा उसको
तू भूल जा उसको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किसी औरत से
किसी औरत से
Shekhar Chandra Mitra
"बड़ा सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
फूलों की ख़ुशबू ही,
फूलों की ख़ुशबू ही,
Vishal babu (vishu)
ठंडी क्या आफत है भाई
ठंडी क्या आफत है भाई
AJAY AMITABH SUMAN
धड़कन धड़कन ( गीत )
धड़कन धड़कन ( गीत )
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"बरसाने की होली"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
NEEL PADAM
NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
नेताम आर सी
प्रेम में डूब जाने वाले,
प्रेम में डूब जाने वाले,
Buddha Prakash
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
Arvind trivedi
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
गंगा दशहरा मां गंगा का प़काट्य दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कवि
कवि
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐अज्ञात के प्रति-77💐
💐अज्ञात के प्रति-77💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्री राम
श्री राम
Kavita Chouhan
रात के अंधेरे में नसीब आजमाना ठीक नहीं है
रात के अंधेरे में नसीब आजमाना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*चाहता दो वक्त रोटी ,बैठ घर पर खा सकूँ 【हिंदी गजल/ गीतिका】*
*चाहता दो वक्त रोटी ,बैठ घर पर खा सकूँ 【हिंदी गजल/ गीतिका】*
Ravi Prakash
ग्रीष्मकाल के दौर में
ग्रीष्मकाल के दौर में
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन में सफल होने
जीवन में सफल होने
Rashmi Mishra
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
मृदुलता ,शालीनता ,शिष्टाचार और लोगों के हमदर्द बनकर हम सम्पू
DrLakshman Jha Parimal
बाल दिवस पर मेरी कविता
बाल दिवस पर मेरी कविता
तरुण सिंह पवार
जो गिर गिर कर उठ जाते है, जो मुश्किल से न घबराते है,
जो गिर गिर कर उठ जाते है, जो मुश्किल से न घबराते है,
अनूप अम्बर
साज़िश
साज़िश
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
मैं और दर्पण
मैं और दर्पण
Seema gupta,Alwar
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
Ravi Ghayal
इंसान में नैतिकता
इंसान में नैतिकता
Dr fauzia Naseem shad
Loading...