Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

We can not judge in our life ,

We can not judge in our life ,
Wheather happiness around us , real or fake.
Wheather people around us protective or dangerous .
Only the one thing we can do ,
And that is wait for the right time ,
To decide anymore

66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*आते हैं कुछ जेल से, जाते हैं कुछ जेल (कुंडलिया)*
*आते हैं कुछ जेल से, जाते हैं कुछ जेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
हमारा ऐसा हिंदुस्तान।
हमारा ऐसा हिंदुस्तान।
Satish Srijan
हम जाति से शुद्र नहीं थे. हम कर्म से शुद्र थे, पर बाबा साहब
हम जाति से शुद्र नहीं थे. हम कर्म से शुद्र थे, पर बाबा साहब
जय लगन कुमार हैप्पी
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?
Shakil Alam
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बहुत असमंजस में हूँ मैं
बहुत असमंजस में हूँ मैं
gurudeenverma198
हड़ताल
हड़ताल
नेताम आर सी
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
'अशांत' शेखर
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
💐 Prodigy Love-5💐
💐 Prodigy Love-5💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
Anju ( Ojhal )
"
*Author प्रणय प्रभात*
दिल ने दिल को पुकारा, दिल तुम्हारा हो गया
दिल ने दिल को पुकारा, दिल तुम्हारा हो गया
Ram Krishan Rastogi
🧑‍🎓मेरी सफर शायरी🙋
🧑‍🎓मेरी सफर शायरी🙋
Ms.Ankit Halke jha
बाबा साहब आम्बेडकर
बाबा साहब आम्बेडकर
Aditya Prakash
वीज़ा के लिए इंतज़ार
वीज़ा के लिए इंतज़ार
Shekhar Chandra Mitra
बिना तुम्हारे
बिना तुम्हारे
Shyam Sundar Subramanian
तीन दोहे
तीन दोहे
Vijay kumar Pandey
क्रोध
क्रोध
लक्ष्मी सिंह
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
सीरत
सीरत
Shutisha Rajput
अस्तित्व है उसका
अस्तित्व है उसका
Dr fauzia Naseem shad
गुलाब-से नयन तुम्हारे
गुलाब-से नयन तुम्हारे
परमार प्रकाश
देह खड़ी है
देह खड़ी है
Dr. Sunita Singh
कुटुंब के नसीब
कुटुंब के नसीब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चिड़िया रानी
चिड़िया रानी
नन्दलाल सुथार "राही"
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
*सजा- ए – मोहब्बत *
*सजा- ए – मोहब्बत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...