Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

Wakt ko thahra kar kisi mod par ,

Wakt ko thahra kar kisi mod par ,
Ab hawa ki tej bahav se mil jana hai,.
Rukna nhi hai tujhe na piche mudana hai ,
Tu rahi hai tujhe bus chalte jana hai😍 by sakshi

102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
If life is a dice,
If life is a dice,
DrChandan Medatwal
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
हमारा प्रदेश
हमारा प्रदेश
*Author प्रणय प्रभात*
वो चांद देखता है जरूर ,
वो चांद देखता है जरूर ,
Harshit Nailwal
बेरोजगारी।
बेरोजगारी।
Anil Mishra Prahari
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
लटक गयी डालियां
लटक गयी डालियां
ashok babu mahour
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
Tarun Prasad
लहज़ा गुलाब सा है, बातें क़माल हैं
लहज़ा गुलाब सा है, बातें क़माल हैं
Dr. Rashmi Jha
💐प्रेम कौतुक-495💐
💐प्रेम कौतुक-495💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़माने में बहुत लोगों से बहुत नुकसान हुआ
ज़माने में बहुत लोगों से बहुत नुकसान हुआ
शिव प्रताप लोधी
सोहनी-महिवाल
सोहनी-महिवाल
Shekhar Chandra Mitra
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
चांद निकला है तुम्हे देखने के लिए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*नमन सकल जग के स्वामी【हिंदी गजल/गीतिका】*
*नमन सकल जग के स्वामी【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
कोई इतना नहीं बलवान
कोई इतना नहीं बलवान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दोगला चेहरा
दोगला चेहरा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
Vishal babu (vishu)
ससुराल का परिचय
ससुराल का परिचय
Seema gupta,Alwar
" मैं कांटा हूँ, तूं है गुलाब सा "
Aarti sirsat
"यादें अलवर की"
Dr Meenu Poonia
कब तक इंतजार तेरा हम करते
कब तक इंतजार तेरा हम करते
gurudeenverma198
मेरी इबादत
मेरी इबादत
umesh mehra
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
कुछ मीठे से शहद से तेरे लब लग रहे थे
Sonu sugandh
दाना
दाना
Satish Srijan
मउगी चला देले कुछउ उठा के
मउगी चला देले कुछउ उठा के
आकाश महेशपुरी
लम्हों की तितलियाँ
लम्हों की तितलियाँ
Karishma Shah
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
Kavita Chouhan
यूँही कुछ मसीहा लोग बेवजह उलझ जाते है
यूँही कुछ मसीहा लोग बेवजह उलझ जाते है
'अशांत' शेखर
Loading...