Aug 25, 2021 · 1 min read

Together we can do

This is a matter of pride that daughters of India have brought Laurels to the country .These happy moments have created inspirational chapters in syllabus for the generations to come.
Our support ,guidance and trust in their capability to fly with high colours made us all
Proud with their win;l but it is sad to write that birth of a girl child is still not accepted as a pride moment by many. gradually things are changing but at a low pace. A lot to be done to bring awareness save.,..create a healthy safe environment for a girl child. so that we can feel proud with bright future .Let’s move together towards the sunshine
Aruna Dogra Sharma ✍©

261 Views
You may also like:
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
Is It Possible
Manisha Manjari
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
ऐ वतन!
Anamika Singh
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr. Alpa H.
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
हे गुरू।
Anamika Singh
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
Loading...