Jan 21, 2022 · 1 min read

The Unfairness

Life played so unfairly,
Whenever I started to swim.
I would’ve found the shore,
If the storm didn’t come.
I wanted to see the scenarios
Through my garden.
But neither did my destiny allows it,
Nor the spring season.
Others are lucky to have,
The moonlight over their ocean.
And HE blessed me with a broken star
Who died and fell into my horizon.

1 Like · 1 Comment · 202 Views
You may also like:
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक पिता की जान।
Taj Mohammad
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
मेरा बचपन
Ankita Patel
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
पिता का साथ जीत है।
Taj Mohammad
ऐ वतन!
Anamika Singh
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
शिव शम्भु
Anamika Singh
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
#जातिबाद_बयाना
D.k Math
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
सच एक दिन
gurudeenverma198
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H.
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...