Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2023 · 1 min read

The Huge Mountain!

The Huge Mountain! The Huge Mountain!
Peaks are touching the clouds ,
Mountains are very strong ,
Stops the powerful storms.

The Huge Mountain!The Huge Mountain!
Who can climbs on the ​top,
If you not fear from height,
Mountains have proud for it.

Written by-
Buddha Prakash,
Maudaha Hamirpur

Language: English
2 Likes · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
#शुभ_प्रतिपदा
#शुभ_प्रतिपदा
*Author प्रणय प्रभात*
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
शायरी
शायरी
डॉ मनीष सिंह राजवंशी
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ
वक्त हो बुरा तो …
वक्त हो बुरा तो …
sushil sarna
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
Jyoti Khari
कविता
कविता
Rambali Mishra
"बे-दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
पूर्वार्थ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
नमस्कार मित्रो !
नमस्कार मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
उत्तर प्रदेश प्रतिनिधि
उत्तर प्रदेश प्रतिनिधि
Harminder Kaur
अगर आप सही हैं, तो आपके साथ सही ही होगा।
अगर आप सही हैं, तो आपके साथ सही ही होगा।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
*पाते जन्म-मरण सभी, स्वर्ग लोक के भोग (कुंडलिया)*
*पाते जन्म-मरण सभी, स्वर्ग लोक के भोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वाणी से उबल रहा पाणि
वाणी से उबल रहा पाणि
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फिर भी तो बाकी है
फिर भी तो बाकी है
gurudeenverma198
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ह्रदय
ह्रदय
Monika Verma
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
लघुकथा -
लघुकथा - "कनेर के फूल"
Dr Tabassum Jahan
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
Anand Kumar
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
सब कुछ बदल गया,
सब कुछ बदल गया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
2744. *पूर्णिका*
2744. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
नेताम आर सी
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
Aditya Prakash
Loading...