Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2021 · 1 min read

The Bridge

The bridge standing over the river,
Always ask it shivers,
Oh! river are you flowing forever,
Shining in the summer,
Overflowing me becomes winner,
Me never be happy,
To seeing become friendly,
Crowd passing over me,
seeing to shake me,
you feel hilarious,
innocent,to oppugation ,
Slightly lovingly help me,
it’s a perilous truth.

Written by..Buddha Prakash;
Residence- Maudaha ;Hamirpur (U.P.)

Language: English
Tag: Poem
5 Likes · 602 Views
You may also like:
Bhuneshwar Sinha Congress leader Chhattisgarh. bhuneshwar sinha politician chattisgarh
Bramhastra sahityapedia
हर घर तिरंगा
अश्विनी कुमार
अच्छा लगता है
लक्ष्मी सिंह
ये हमारे कलम की स्याही, बेपरवाहगी से भी चुराती है,...
Manisha Manjari
फिर भी नदियां बहती है
जगदीश लववंशी
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
संस्कारी नाति (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
■ लघुकथा / प्रेस कॉन्फ्रेंस
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क़ भी इंकलाबी हो
Shekhar Chandra Mitra
बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना
विनोद सिल्ला
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
|| श्री श्रीचैतन्य महाप्रभु || 🙏🏻🙇
Pravesh Shinde
रखते हैं प्रभु ही सदा,जग में सबका ध्यान।
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐संसारस्य प्राप्ति: अप्राप्तस्य प्राप्ति:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन व्यर्थ नही है
अनूप अंबर
होता नहीं अब मुझसे
gurudeenverma198
कोई तो बताए हमें।
Taj Mohammad
प्यार
विशाल शुक्ल
✍️मै कहाँ थक गया हूँ..✍️
'अशांत' शेखर
आ तुझको तुझ से चुरा लू
Ram Krishan Rastogi
अगनित उरग..
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
*** घर के आंगन की फुलवारी ***
Swami Ganganiya
रविश कुमार हूँ मैं
Sandeep Albela
Advice
Shyam Sundar Subramanian
जब मुझे याद कुछ नहीं रहता
Dr fauzia Naseem shad
*फनकार फिर रोया बहुत ( हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
" जंगल की दुनिया "
Dr Meenu Poonia
प्यार-दिल की आवाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...