Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2023 · 1 min read

Sukun usme kaha jisme teri jism ko paya hai

Sukun usme kaha jisme teri jism ko paya hai
Sukun usme hai , jisme teri ruh ko gale lagaya hai.
Ye jism to bus ek jariya h , teri saso tak pahuchne ka
Wrna hmara irada to teri aatma se mil jana hai😍.
By sakshi

1 Like · 266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पूर्णिमा का चाँद
पूर्णिमा का चाँद
Neeraj Agarwal
मुर्दा समाज
मुर्दा समाज
Rekha Drolia
बंधुआ लोकतंत्र
बंधुआ लोकतंत्र
Shekhar Chandra Mitra
दिल-ए-रहबरी
दिल-ए-रहबरी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
यादें
यादें
Versha Varshney
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
🦋🦋तुम रहनुमा बनो मेरे इश्क़ के🦋🦋
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
कवि दीपक बवेजा
ज़ख़्म दिल का
ज़ख़्म दिल का
मनोज कर्ण
राष्ट्रभाषा
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
फ़ासले मायने नहीं रखते
फ़ासले मायने नहीं रखते
Dr fauzia Naseem shad
शाम
शाम
N manglam
"द्रोह और विद्रोह"
*Author प्रणय प्रभात*
“ हम महान बनने की चाहत में लोगों से दूर हो जाएंगे “
“ हम महान बनने की चाहत में लोगों से दूर हो जाएंगे “
DrLakshman Jha Parimal
*अग्रसेन को पूजिए ( कुंडलिया )*
*अग्रसेन को पूजिए ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
Kanchan Khanna
रिश्तों का गणित
रिश्तों का गणित
Madhavi Srivastava
तेरे दिल में कोई और है
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
चमचागिरी
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
अनकहे शब्द बहुत कुछ कह कर जाते हैं।
Manisha Manjari
Millets : a Superfood or a Diet fad ? Speech | Essay by Aahna Dhiman - Param Himalays |
Millets : a Superfood or a Diet fad ? Speech | Essay by Aahna Dhiman - Param Himalays |
Param Himalaya
धूप कड़ी कर दी
धूप कड़ी कर दी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
मै हिम्मत नही हारी
मै हिम्मत नही हारी
Anamika Singh
करीम तू ही बता
करीम तू ही बता
Satish Srijan
एक अदद इंसान हूं
एक अदद इंसान हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
ज़ैद बलियावी
एक जंग, गम के संग....
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
Manju sagar
कौन सी खूबसूरती
कौन सी खूबसूरती
जय लगन कुमार हैप्पी
Loading...