Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

Sometimes you shut up not

Sometimes you shut up not
Because you don’t know anything
But because you know a lot

56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Sakshi Tripathi
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
विमला महरिया मौज
वचन मांग लो, मौन न ओढ़ो
वचन मांग लो, मौन न ओढ़ो
Shiva Awasthi
तुमको मिले जो गम तो हमें कम नहीं मिले
तुमको मिले जो गम तो हमें कम नहीं मिले
हरवंश हृदय
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
त्रिया चरित्र
त्रिया चरित्र
Rakesh Bahanwal
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
सिर्फ तुम
सिर्फ तुम
Arti Bhadauria
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
चिड़िया की बस्ती
चिड़िया की बस्ती
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं भारत हूं
मैं भारत हूं
Ms.Ankit Halke jha
" तुम्हारी जुदाई में "
Aarti sirsat
*माँ कटार-संग लाई हैं* *(घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद )*
*माँ कटार-संग लाई हैं* *(घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद )*
Ravi Prakash
रात है यह काली
रात है यह काली
जगदीश लववंशी
कल देखते ही फेरकर नजरें निकल गए।
कल देखते ही फेरकर नजरें निकल गए।
Prabhu Nath Chaturvedi
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
Anand Kumar
"चाहत का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
■ एक और परिभाषा
■ एक और परिभाषा
*Author प्रणय प्रभात*
विश्वास की मंजिल
विश्वास की मंजिल
Buddha Prakash
माँ भारती वंदन
माँ भारती वंदन
Kanchan Khanna
पर्दाफाश
पर्दाफाश
Shekhar Chandra Mitra
💐अज्ञात के प्रति-122💐
💐अज्ञात के प्रति-122💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं कवि हूं
मैं कवि हूं
Shyam Sundar Subramanian
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
ऋतुराज बसंत
ऋतुराज बसंत
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
आई होली
आई होली
Kavita Chouhan
बड़े लोग क्रेडिट देते है
बड़े लोग क्रेडिट देते है
Amit Pandey
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
प्रजापति कमलेश बाबू
Loading...