Sep 9, 2021 · 1 min read

School days

Memories may be sweet or sad but it comes in our mind when we are left alone.
I remembered the first day when I joined the school. At first I used to think that d hook was a jail and each and every student’s were beaten. But my concept was really wrong. As the day passed then I realise that the teachers are the best friends teachers scolded us punished us for them we became a civilised person.
I used to cry to go to school but now I think that if I get my golden days back.
Now being a teacher I understood that our teachers what pain they had taken to make us a civilised person.

1 Comment · 251 Views
You may also like:
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
**नसीब**
Dr. Alpa H.
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
ख्वाब
Swami Ganganiya
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इश्क़ में क्या हार-जीत
N.ksahu0007@writer
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
Little baby !
Buddha Prakash
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
【7】** हाथी राजा **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मां
Dr. Rajeev Jain
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
Loading...