Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2023 · 1 min read

Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,

Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Mureed ho gayi thi tere bekhauf najrane ki,
Itni chhote de di tumne khuch arso me
Ki afsos hota h ab , tujhse dil lagane ki😍
By sakshi

94 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"चुम्बन"
Dr. Kishan tandon kranti
कर्मण्य के प्रेरक विचार
कर्मण्य के प्रेरक विचार
Shyam Pandey
आंधियां हैं तो शांत नीला आकाश भी है,
आंधियां हैं तो शांत नीला आकाश भी है,
Dr. Rajiv
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
डॉ. दीपक मेवाती
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
अब ज़माना नया है,नयी रीत है।
अब ज़माना नया है,नयी रीत है।
Dr Archana Gupta
दर्द का दरिया
दर्द का दरिया
Bodhisatva kastooriya
बर्फ के टीलों से घर बनाने निकले हैं,
बर्फ के टीलों से घर बनाने निकले हैं,
कवि दीपक बवेजा
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
भय की आहट
भय की आहट
Buddha Prakash
2270.
2270.
Dr.Khedu Bharti
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
दर्द
दर्द
Satish Srijan
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
Vishal babu (vishu)
खुदकुशी नाहीं, इंकलाब करअ
खुदकुशी नाहीं, इंकलाब करअ
Shekhar Chandra Mitra
छुपा रखा है।
छुपा रखा है।
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
👌आज का शेर —
👌आज का शेर —
*Author प्रणय प्रभात*
हैदराबाद-विजय (कुंडलिया)
हैदराबाद-विजय (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
दादा की मूँछ
दादा की मूँछ
Dr Nisha nandini Bhartiya
तुझसे मिलकर बिछड़ना क्या दस्तूर था (01)
तुझसे मिलकर बिछड़ना क्या दस्तूर था (01)
Dr. Pratibha Mahi
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
gurudeenverma198
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
💐अज्ञात के प्रति-14💐
💐अज्ञात के प्रति-14💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...