Oct 15, 2021 · 1 min read

Permit To Be Imperfect

Trust yourself and permit to be imperfect.
Don’t pursue what others are seeking,
unless it echoes in your bones.
Spew out whatever you have,
ingested about not being enough.
Your genuineness is awesome.
And you don’t need to obsess any
longer about finding your path.
Start simple.
Tie string from your heart to your feet
And only walk in the direction that makes you tick.

2 Likes · 321 Views
You may also like:
गुरु तुम क्या हो यार !
The jaswant Lakhara
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H.
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सच
अंजनीत निज्जर
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H.
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
Loading...