Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

Pahado ke chadar se lipti hai meri muhabbat

Pahado ke chadar se lipti hai meri muhabbat
Ki bekhre to makhmal si ret pr aur simte to vadiyo ki baho me ho .
Mere ashiyane bus itne hi ho ki tumse hi shuru , ant bhi tum tak hi ho ..
😍by sakshi

1 Like · 131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
दुर्जन ही होंगे जो देंगे दुर्जन का साथ ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"बचपने में जानता था
*Author प्रणय प्रभात*
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
Nav Lekhika
अब साम्राज्य हमारा है युद्ध की है तैयारी ✍️✍️
अब साम्राज्य हमारा है युद्ध की है तैयारी ✍️✍️
Rohit yadav
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जबसे उनके हाथ पीले हो गये
जबसे उनके हाथ पीले हो गये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सच सच बोलो
सच सच बोलो
सूर्यकांत द्विवेदी
त्रिया चरित्र
त्रिया चरित्र
Rakesh Bahanwal
सुप्रभात गीत
सुप्रभात गीत
Ravi Ghayal
मित्र कौन है??
मित्र कौन है??
Ankita Patel
इश्किया होली
इश्किया होली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*लगा है रोग घोटालों का (हिंदी गजल/गीतिका)*
*लगा है रोग घोटालों का (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
डी. के. निवातिया
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
💐अज्ञात के प्रति-126💐
💐अज्ञात के प्रति-126💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे
gurudeenverma198
इंकलाब की मशाल
इंकलाब की मशाल
Shekhar Chandra Mitra
मांँ की सीरत
मांँ की सीरत
Buddha Prakash
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
हाई रे मेरी तोंद (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
दूर जाकर सिर्फ यादें दे गया।
दूर जाकर सिर्फ यादें दे गया।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मन के पार
मन के पार
Dr. Rajiv
जिस रास्ते के आगे आशा की कोई किरण नहीं जाती थी
जिस रास्ते के आगे आशा की कोई किरण नहीं जाती थी
कवि दीपक बवेजा
बेटियाँ
बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
जितना लफ़्ज़ों में
जितना लफ़्ज़ों में
Dr fauzia Naseem shad
इस छोर से.....
इस छोर से.....
Shiva Awasthi
क्या दिखेगा,
क्या दिखेगा,
pravin sharma
Loading...