Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

🌹Prodigy Love-21🌹

Oh Dear!
Don’t worry.
we are meeting with soul and heart.
Our nothing is far from nature.
We are erudite of love.
Because we are exploring.
To each other in our heart’s.
Our hearts are so pious as heaven.
Spring,always,prevails in our heart.
Sun forget His warmth.
Moon forget his coldness.
Both are evergreen.
Yes, sometimes eyes are showing rainy season.
And sometimes eyes are very glad.
But you don’t become sad.
What do you like colour red?
Let you like this.
As I shall wait for your deed.
And sure,I find your life,s for read.
All in this world are mortal.
So,love is life’s Total.
Oh Dear.
©®Abhishek Parashar “Aanand”

55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुखद अंत 🐘
दुखद अंत 🐘
Rajni kapoor
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐प्रेम कौतुक-531💐
💐प्रेम कौतुक-531💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
''आशा' के मुक्तक
''आशा' के मुक्तक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ईश्वर से यही अरज
ईश्वर से यही अरज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दिल का खेल
दिल का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाति बनाम जातिवाद।
जाति बनाम जातिवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
गोलगप्पा/पानीपूरी
गोलगप्पा/पानीपूरी
लक्ष्मी सिंह
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
subhash Rahat Barelvi
बुद्ध धम्म में चलें
बुद्ध धम्म में चलें
Buddha Prakash
जो तुम समझे ❤️
जो तुम समझे ❤️
Rohit yadav
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
■ आम जनता के लिए...
■ आम जनता के लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
जन-सेवक
जन-सेवक
Shekhar Chandra Mitra
उलझन ज़रूरी है🖇️
उलझन ज़रूरी है🖇️
Skanda Joshi
सफ़र
सफ़र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हमारा सब्र तो देखो
हमारा सब्र तो देखो
Surinder blackpen
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
सबके साथ हमें चलना है
सबके साथ हमें चलना है
DrLakshman Jha Parimal
कहानी संग्रह-अनकही
कहानी संग्रह-अनकही
राकेश चौरसिया
*क्रय करिएगा पुस्तकें (कुंडलिया)*
*क्रय करिएगा पुस्तकें (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तारों के मोती अम्बर में।
तारों के मोती अम्बर में।
Anil Mishra Prahari
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
वर्णमाला हिंदी grammer by abhijeet kumar मंडल(saifganj539 (
वर्णमाला हिंदी grammer by abhijeet kumar मंडल(saifganj539 (
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
पापा की बिटिया
पापा की बिटिया
Arti Bhadauria
कवितायें सब कुछ कहती हैं
कवितायें सब कुछ कहती हैं
Satish Srijan
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
Anand.sharma
बारिश
बारिश
Aksharjeet Ingole
Loading...