Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2023 · 1 min read

💐 Prodigy Love-41💐

Oh Dear!
Leaving The God,where are you going?
This mundane world is not real for everyone.
Yes,God is real for everyone.
Anyone can not know this fable by God,s grace.
Definitely, HIS eyes are seeing us.
If we are working good,God will do good for us.
It’s postulate.
Not,will be postulated
But,it’s base is True Love.
Here,all are the same.
Hostility will not seem.Cause is only true love.
As far as,we are seeing,it is empirical.
Human remains in remnants.
It is truth of human life.
We are living.but how,let pay attention on this.
Good living have different path.
Accept this with true love.
This the empire of True Love.
Don’t leave this.
Oh Dear!
©® Abhishek Parashar “Aanand”

Language: English
185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
'गुरु' (देव घनाक्षरी)
'गुरु' (देव घनाक्षरी)
Godambari Negi
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
महामोह की महानिशा
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2289.पूर्णिका
2289.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
चाँद
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
■ बधाई
■ बधाई
*Author प्रणय प्रभात*
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
*घोर प्रशंसा कौवे की कोयल को करनी पड़ती है (हिंदी गजल/ हास्य गीतिका)*
*घोर प्रशंसा कौवे की कोयल को करनी पड़ती है (हिंदी गजल/ हास्य गीतिका)*
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-115💐
💐अज्ञात के प्रति-115💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
बड्ड यत्न सँ हम
बड्ड यत्न सँ हम
DrLakshman Jha Parimal
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
तिरंगा लगाना तो सीखो
तिरंगा लगाना तो सीखो
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
एक मंत्र के जाप से इन्द्र का सिंहासन हिल जाता है
एक मंत्र के जाप से इन्द्र का सिंहासन हिल जाता है
राकेश कुमार राठौर
विभाजन की व्यथा
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
मेरी जान तिरंगा
मेरी जान तिरंगा
gurudeenverma198
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
Ms.Ankit Halke jha
कश्ती को साहिल चाहिए।
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
भ्रष्टाचार और सरकार
भ्रष्टाचार और सरकार
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
एक प्रयास अपने लिए भी
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
✍️कुछ ख्वाइशें और एक ख़्वाब...
✍️कुछ ख्वाइशें और एक ख़्वाब...
'अशांत' शेखर
सच तो सच ही रहता हैं।
सच तो सच ही रहता हैं।
Neeraj Agarwal
Loading...