Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2023 · 1 min read

💐Prodigy Love-38💐

Oh Dear!
Reciprocally,we will pace ourself.
Unsung songs also,we shall listen.
But,your voice,internally, should not so slowly.
Let listen it.
With your closed eyes.
Will you listen?
Again, listen.
What are you listening?
Listen it loudly.
Again, again.
Then, let call calm.
Let search calm.
It’s not short journey.
Burn midnight oil for this.
Silence.
Attentively,otherwise,solitude would destroy you.
You may become mad.
But not,Pray God with true love.
HE will listen you, definitely,
Yes it is True Love.
Oh Dear!
©®Abhishek Parashar “Aanand”

Language: Hindi
92 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
कलाकार की कला✨
कलाकार की कला✨
Skanda Joshi
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
चराग बुझते ही.....
चराग बुझते ही.....
Vijay kumar Pandey
कुडा/ करकट का संदेश
कुडा/ करकट का संदेश
Vijay kannauje
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
आने वाला कल दुनिया में, मुसीबतों का कल होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐अज्ञात के प्रति-76💐
💐अज्ञात के प्रति-76💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम अपने प्रोफाइल को लॉक करके रखते हैं ! साइबर क्राइम के परिव
हम अपने प्रोफाइल को लॉक करके रखते हैं ! साइबर क्राइम के परिव
DrLakshman Jha Parimal
खेल,
खेल,
Buddha Prakash
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
Anand Kumar
फूल खिलते जा रहे
फूल खिलते जा रहे
surenderpal vaidya
अरमां (घमण्ड)
अरमां (घमण्ड)
umesh mehra
मकर संक्रांति पर्व
मकर संक्रांति पर्व
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कहानी *
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
प्रेमदास वसु सुरेखा
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
*रामचरितमानस विशद, विपुल ज्ञान भंडार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
जीवनसाथी
जीवनसाथी
Rajni kapoor
डॉअरुण कुमार शास्त्री
डॉअरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अमृत उद्यान
अमृत उद्यान
मनोज कर्ण
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
Anil chobisa
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
ज़िंदगी की ज़रूरत के
ज़िंदगी की ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
विचार मंच भाग -8
विचार मंच भाग -8
Rohit Kaushik
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पास बुलाता सन्नाटा
पास बुलाता सन्नाटा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
कवि दीपक बवेजा
खुशी और गम
खुशी और गम
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक उलझा सवाल।
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
Loading...