Jul 11, 2021 · 1 min read

O My Only Dear One!

O my only dear one!
Would you please accompany me
Till last of my breaths vanishes
And my soul pleads for thee?
Till the sun burns to ashes
And it’s brightness becomes deadly.

Would you please accompany me
Till I fall in jaws of death?
The wetness of thy memory- sea
Refreshes every withering breath.

O my only dear one!
Would you please accompany me
Till vagabond raindrops of ages
Wipe colours of my mood brutally?

NECTAR

223 Views
You may also like:
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H.
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
प्रयास
Dr.sima
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
याद आते हैं।
Taj Mohammad
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Destined To See A Totally Different Sight
Manisha Manjari
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H.
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
अंजान बन जाते हैं।
Taj Mohammad
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"एक यार था मेरा"
Lohit Tamta
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गांव के घर में।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
Loading...