Jul 4, 2021 · 1 min read

O consort!

Not possible life without you,
Not possible amusement of heart..
O consort! Loving consort!

A poet, I am,
My sonnet is thought of thee..
I’ll prefer death
To a life in thy absence.
Even death is to come hardly
Harder is life to be lived.
Since Thou have become
My best half part..
O consort! Dear consort!

How far is, solace- producer
a dream of thee..
As slumber is lost
And lasting no sense.
A moment seems
Mountain of ages,
Against me nature
has intrigued.
Slower and burdensome
Going My life’s cart.
O consort! Dear consort!

Nectar

2 Likes · 1 Comment · 148 Views
You may also like:
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H.
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
Waqt
ananya rai parashar
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
** यकीन **
Dr. Alpa H.
मेरा बचपन
Ankita Patel
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
प्यार भरे गीत
Dr.sima
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
महाराणा का शौर्य
Ashutosh Singh
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसान
Shriyansh Gupta
दिल की आरजू.....
Dr. Alpa H.
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा-"तारीखों के बीच" लेखक-'मनु स्वामी'
Rashmi Sanjay
शासन वही करता है
gurudeenverma198
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
Loading...