Sep 23, 2021 · 1 min read

MY LOVE

Dear Love ! ,

Wrapped in winter blankets,
Standing in fog,
Raise your hands,
If the cold touch of dew,
thrilles your mind !!
Understand that I am,
I am, I am my DEAR LOVE
Always near you. 💕

279 Views
You may also like:
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
अंदाज़।
Taj Mohammad
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कविराज
Buddha Prakash
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
इश्क़ में क्या हार-जीत
N.ksahu0007@writer
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
* राहत *
Dr. Alpa H.
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
कहानियां
Alok Saxena
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
रसीला आम
Buddha Prakash
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
Loading...