Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2022 · 1 min read

My Expressions

Human value is precious which can never be assessed in monetary terms.

Language: English
Tag: Quotation
1 Like · 346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ईश्वर के रूप 'पिता'
ईश्वर के रूप 'पिता'
Gouri tiwari
वो पुराने सुहाने दिन....
वो पुराने सुहाने दिन....
Santosh Soni
मेघ गोरे हुए साँवरे
मेघ गोरे हुए साँवरे
Dr Archana Gupta
एक ठहरा ये जमाना
एक ठहरा ये जमाना
Varun Singh Gautam
All your thoughts and
All your thoughts and
Dhriti Mishra
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
Arvind trivedi
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
■ ग़ज़ल / अब मेटी नादानी देख...!
■ ग़ज़ल / अब मेटी नादानी देख...!
*Author प्रणय प्रभात*
"बुराई की जड़"
Dr. Kishan tandon kranti
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
गुरुवर तोरे‌ चरणों में,
Kanchan Khanna
*हिम्मत जिंदाबाद  (कहानी)*
*हिम्मत जिंदाबाद (कहानी)*
Ravi Prakash
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
Jay Dewangan
कितने फ़र्ज़?
कितने फ़र्ज़?
Shaily
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
Sanjay ' शून्य'
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोहब्बत मेरी थी
मोहब्बत मेरी थी
जय लगन कुमार हैप्पी
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
shabina. Naaz
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
देश खोखला
देश खोखला
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मुझे प्रीत है वतन से, मेरी जान है तिरंगा
मुझे प्रीत है वतन से, मेरी जान है तिरंगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बाल  मेंहदी  लगा   लेप  चेहरे  लगा ।
बाल मेंहदी लगा लेप चेहरे लगा ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अगर एक बार तुम आ जाते
अगर एक बार तुम आ जाते
Ram Krishan Rastogi
तुम्हारी खूब़सूरती क़ी दिन रात तारीफ क़रता हूं मैं....
तुम्हारी खूब़सूरती क़ी दिन रात तारीफ क़रता हूं मैं....
Swara Kumari arya
आज की नारी हूँ
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
Anil chobisa
Loading...