Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

My Expressions

There is no acid test for integrity, but it is tested on different platforms over a prolonged period.

Language: English
Tag: Quotation
247 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
सागर बोला, सुन ज़रा
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
244.
244. "प्यारी बातें"
MSW Sunil SainiCENA
ग़म
ग़म
Dr.S.P. Gautam
💐प्रेम कौतुक-214💐
💐प्रेम कौतुक-214💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कानून लचर हो जहाँ,
कानून लचर हो जहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तेरे दुःख दर्द कितने सुर्ख है l
तेरे दुःख दर्द कितने सुर्ख है l
अरविन्द व्यास
आस्तीक भाग -नौ
आस्तीक भाग -नौ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
छोटे-मोटे मौक़ों पर
छोटे-मोटे मौक़ों पर
*Author प्रणय प्रभात*
✍️मेरी शख़्सियत✍️
✍️मेरी शख़्सियत✍️
'अशांत' शेखर
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
बाँस और घास में बहुत अंतर होता है जबकि प्रकृति दोनों को एक स
Dr. Man Mohan Krishna
एक पिता की जान।
एक पिता की जान।
Taj Mohammad
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
कन्यादान लिखना भी कहानी हो गई
कन्यादान लिखना भी कहानी हो गई
VINOD KUMAR CHAUHAN
समय और स्त्री
समय और स्त्री
Madhavi Srivastava
कुछ तो उबाल दो
कुछ तो उबाल दो
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहावली-रूप का दंभ
दोहावली-रूप का दंभ
asha0963
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Pratibha Pandey
विचारमंच भाग -3
विचारमंच भाग -3
Rohit Kaushik
किस्मत की निठुराई....
किस्मत की निठुराई....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Motivation ! Motivation ! Motivation !
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक हकीक़त
एक हकीक़त
Ray's Gupta
*जिंदगी की अर्थवत्ता इस तरह कुछ खो गई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*जिंदगी की अर्थवत्ता इस तरह कुछ खो गई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
रामे क बरखा ह रामे क छाता
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
★उसकी यादें ★
★उसकी यादें ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*कोई नई ना बात है*
*कोई नई ना बात है*
Dushyant Kumar
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
कवि दीपक बवेजा
Chehre se sundar nhi per,
Chehre se sundar nhi per,
Vandana maurya
Loading...