Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

” नारी “

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
===============
इतिहास साक्षी अछि …….प्रायः प्रायः वीरांगना लोकनि अनिन्द्य सुन्दरिये छलीह ! रणचण्डिक रूप धारण करि शत्रु विनाश केलनि ….किन्तुर क रानी चेलम्मा अप्पन सुंदरता मे अद्वितीय छलीह …..सन १८५७ मे मात्र ३३ बरखक रहित दक्षिण कर्णाटक राज्य क नेतृत्व केलनि …..रानी लक्ष्मीवाई क अप्रतिम शौर्य हुनका सुन्दरताक संग भेटल छलनि …….बेगम हजरत महल स्वयं हाथी चढ़ि अंग्रेज लार्ड कन्निन्ग्स केँ अप्पन चंडीरूप देखने छथि …….महारानी पद्मिनी रानी दुर्गावती ………आर सहस्त्रों उदहारण अछि !
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
एस ० पी ० कॉलेज रोड
दुमका
झारखण्ड

19 Views
Like
Author

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...