· Reading time: 1 minute

इ सब संसार दे

मोनसँ हे गौरी सजना के पियार दे
कलकत्तासे लौटल पानि फुआर दे
गंगा मैयाँसँ दुलार कने लऽके उधार
अचरा लहरा कऽ इ सब संसार दे

निरमोही कए गप्प बितउ हिअ पर
मरल करेज बिसरि चलु हे खुटा पर
नवका बुझि हिनके मोर आ छिपकि
पेटि के ललकी नुआ पहिर कए हाँकि
चलू चलू हे ननकी दुलहिन सखी चलू
अचरा लहरा कऽ इ सब संसार दे

माय बाप कयै दिन रखता चिरैय के
उठाबै परत एक दिन ऐहि जिनगी के
किये पायल जैसे छमकी देखाबहि के
दूरि कए आरो गोरकी बडाउ नै गुड़िया
चलू चलू हे ननकी दुलहिन सखी चलू
अचरा लहरा कऽ इ सब संसार दे

मौलिक एवं स्वरचित
© श्रीहर्ष आचार्य

21 Views
Like
Author
विधा नन्द सिंह उपाख्य : श्रीहर्ष आचार्य शिक्षा : एम.एस-सी., एम.बी.ए. जन्म तिथि-1996 मैथिली, हिन्दी,संस्कृत ,खोरठा,अंग्रेजी,अवधी,बंगाली ब्रजभाषा,भोजपुरी,मगही में गजल, दोहा, गीत,कविता ,उपन्यास लेखन सम्मान/पुरस्कार : सरस्वती साहित्य सम्मान, ब्रजभाषा गौरव…

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...