· Reading time: 1 minute

अदिनता

अदिनता

ठीके कहैत छैक नै
अदिनता जखन अबैत छैक
त चारुदिससं अबैत छैक
लिखलहबा जे रहैत छैक से
के मेट सकैत छैक

अनका आन जकां
ओ अयबेटा नै करैत छैक
बेर-बेर सुखा-टटाक’
पका दैत छैक आवामे

ओना एहिमे कोनहुँ आश्चर्य नै
दुक्खो ओहने लोक पर
अपन हाथ अजमाबैत छैक
जत’बुझैत छैक जे ई सहि सकैत अछि
ओ ओकरा पर आओरो ढ़रि जाइत छैक

जरैत छैक वैह लकड़ी धूधूआ धूधूआक’
जे टहटहौआ रौदमे सुखिक’भेल टांट
खूब मनोयोगसँ कयने रहैत अछि पूर्ण तैयारी
नै त होइत की छैक
आगिक संसर्गमे अबिते
भ’ जाइत छैक धूंए-धूंआमय
ओ गाउज-पोंटासं भरि दैत छैक

सत्ते…!
दुक्ख अपन जिम्मेवारी बेस निमाहैत अछि
जकर जड़ि रहैत छैक मजगूत
ओ ओही गाछ पर अपन खोंता बनबैत अछि
#अवधेश#

10 Likes · 18 Comments · 40 Views
Like
Author

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...